Soya Milk तैयार करने का आसान तरीका, जानिए 7 फायदे

Soya Milk तैयार करने का आसान तरीका, जानिए फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
Soya Milk तैयार करने का आसान तरीका, जानिए 7 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

सोया दूध डेयरी दूध का एक स्वस्थ, पौधा-आधारित विकल्प है। इसे सोयाबीन से बनाया जाता है, जो प्रोटीन, फाइबर और कई अन्य आवश्यक पोषक तत्वों का एक उत्कृष्ट स्रोत है। सोया दूध भी लैक्टोज मुक्त होता है, जो इसे उन लोगों के लिए एक आदर्श विकल्प बनाता है जो लैक्टोज असहिष्णु हैं या जिन्हें डेयरी एलर्जी है। अच्छी खबर यह है कि घर पर सोया मिल्क बनाना आसान और सस्ता है। इस लेख में, हम आपको सोया दूध तैयार करने का एक आसान तरीका और इसके लाभों पर प्रकाश डालेंगे।

youtube-cover

Soya Milk तैयार करने का आसान तरीका, जानिए 7 फायदे (Easy Way To Prepare Soya Milk, Know Its 7 Benefits In Hindi)

सोया दूध की तैयारी (Preparation of Soya Milk)

घर पर सोया दूध बनाने के सरल उपाय इस प्रकार हैं:

इंग्रेडिएंट:

1 कप सोयाबीन

4 कप पानी

मिठास जैसे शहद, चीनी या खजूर (वैकल्पिक)

इंस्ट्रक्शन:

1. सोयाबीन को रात भर पानी में भिगो दें।

2. पानी निथारें और सोयाबीन को धो लें।

3. सोयाबीन को चार कप पानी के साथ मुलायम होने तक फेंटें।

4. इस मिश्रण को एक बर्तन में डालें और बीच-बीच में हिलाते हुए मध्यम आँच पर गरम करें।

5. मिश्रण में उबाल आने के बाद, आँच को कम कर दें और 20 मिनट तक उबालें।

6. चीज़क्लॉथ या महीन जाली वाली छलनी से छानने से पहले मिश्रण को ठंडा होने दें।

7. वैकल्पिक: शहद, चीनी या खजूर से स्वादानुसार मीठा करें।

सोया मिल्क के फायदे (Benefits of Soya Milk)

1. प्रोटीन में उच्च (High in Protein)

सोया दूध प्रोटीन का एक उत्कृष्ट स्रोत है, जिसमें सभी नौ आवश्यक अमीनो एसिड होते हैं जिनकी शरीर को आवश्यकता होती है।

2. लो इन फैट (Low in Fat)

सोया दूध स्वाभाविक रूप से फैट में कम होता है, जो इसे अपने वजन पर नजर रखने वालों के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प बनाता है।

3. लैक्टोज-मुक्त (Lactose-Free)

सोया दूध लैक्टोज-मुक्त होता है, जो इसे उन लोगों के लिए एक आदर्श विकल्प बनाता है जो लैक्टोज असहिष्णु हैं या डेयरी एलर्जी है।

4. हृदय-स्वस्थ (Heart-Healthy)

सोया दूध isoflavones में समृद्ध है, जो पौधों पर आधारित यौगिक हैं जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं।

5. विटामिन और मिनरल्स से भरपूर (Rich in Vitamins and Minerals)

सोया दूध विटामिन और खनिजों का एक अच्छा स्रोत है, जिसमें कैल्शियम, विटामिन D, विटामिन B12 और पोटेशियम शामिल हैं।

6. रजोनिवृत्ति के लक्षणों में मदद मिल सकती है (May Help with Menopause Symptom)

सोया दूध में फाइटोएस्ट्रोजेन होते हैं, जो पौधों पर आधारित यौगिक होते हैं जो रजोनिवृत्ति के लक्षणों से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं।

7. पर्यावरण के अनुकूल (Environmentally Friendly)

डेयरी दूध के उत्पादन की तुलना में सोया दूध के उत्पादन के लिए कम संसाधनों की आवश्यकता होती है, जिससे यह पर्यावरण के लिए अधिक टिकाऊ विकल्प बन जाता है।

अंत में, घर पर सोया दूध बनाना इस स्वस्थ और पौष्टिक पौधे-आधारित दूध का आनंद लेने का एक आसान और सस्ता तरीका है। इसके कई स्वास्थ्य लाभों और कम पर्यावरणीय प्रभाव के साथ, सोया दूध उन लोगों के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प है जो अपने आहार में स्वस्थ और अधिक टिकाऊ विकल्प बनाना चाहते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now