Create
Notifications

बुखार होने पर अपनाएं ये घरेलू उपचार- Bukhar hone par apnaye ye gharelu upchar

बुखार होने पर अपनाएं ये घरेलू उपचार
बुखार होने पर अपनाएं ये घरेलू उपचार
Ritu Raj
visit

बदलते मौसम में छोटे से लेकर बड़ों को बुखार आना एक आम समस्या है। कभी-कभी बारिश के बाद निकलती तेज धूप और चिलचिलाती गर्मी तापमान में बदलाव कर देती है, जिससे शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। यही कारण है कि बुखार के बैक्टीरिया आसानी से शरीर में घर कर जाते हैं। यही शरीर में होने वाले इंफेक्शन का कारण भी है। ये इंफेक्शन तेजी से एक इंसान से दूसरे इंसान में प्रवेश कर जाता है। साधारण बुखार 2-3 दिन बना रहता है लेकिन अगर लगातार आपको बुखार बना रहे तो इसका इलाज कराना बहुत ही जरूरी है। बुखार को कुछ घरेलू उपायों के जरिए ठीक किया जा सकता है।

बुखार होने पर अपनाएं ये घरेलू उपचार- Bukhar hone par apnaye ye gharelu upchar in Hindi

सरसों का तेल (mustard oil in fever)

बुखार होने पर सरसों का तेल काफी कारगर साबित होता है। इसके लिए बुखार आने पर 2 चम्मच सरसों के तेल में 4-5 कली लहसुन को डालकर गर्म कर लें। इसके बाद इसे थोड़ा सा ठंडा होने के बाद हाथों और पैरों के तलवों की मालिश करें।

बुखार में प्याज होता है कारगर (Onion will be effective in fever)

बुखार होने पर प्याज की मदद से इसे काफी हद तक ठीक किया जा सकता है। इसके लिए प्याज को काटकर इसे पैरों के तलवों में धीरे-धीरे घिसें, इससे आपके शरीर का तापमान कम होगा और बुखार में काफी राहत मिलेगी।

बुखार में असरदार होती है अदरक (Ginger is effective in fever)

अदरक में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो इम्यूनिटी बूस्ट करने के साथ-साथ शरीर के तापमान को कम करने में मदद करते हैं। इसके साथ ही अदरक को औषधीय गुणों का भंडार कहा जाता है। बुखार होने पर अदरक के पाउडर को पानी में मिलाकर स्नान करने से काफी लाभ मिलता है।

बुखार होने पर पियें तुलसी का काढ़ा (Drink basil decoction in fever)

आयुर्वेद में तुलसी को काफी महत्व दिया गया है। कई दवाओं को बनाने के लिए तुलसी को जड़ी-बूटी के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। बुखार में भी तुलसी काफी कारगर है। तुलसी में एंटीबायोटिक गुण पाए जाते हैं जो आपको बैक्टीरिया से बचाने में मदद करते हैं। बुखार होने पर तुलसी का काढ़ा बनाकर पीने से लाभ मिलता है। 7-8 तुलसी की पत्तियों को पानी में डालकर उबाल लें, इसमें 4-5 कुटी हुई लौंग डाल दें। पानी आधा बच जाने पर इसे ठंडा होने के बाद सेवन करें। काफी आराम मिलेगा।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Ritu Raj
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now