मेंढक आसन (भेकासन): कैसे करें अभ्यास, लाभ और सावधानियां!

Frog Posture (Bhekasana): How To Practice, Benefits And Precautions!
मेंढक आसन (भेकासन): कैसे करें अभ्यास, लाभ और सावधानियां!

फ्रॉग पोस्चर, जिसे संस्कृत में भेकासन के नाम से भी जाना जाता है, एक शक्तिशाली योग मुद्रा है जो कई शारीरिक और मानसिक लाभ प्रदान करती है। इस आसन का नाम मेंढक की मुद्रा से समानता के कारण पड़ा है। यह एक मध्यवर्ती स्तर की मुद्रा है जिसमें लचीलेपन और शक्ति की आवश्यकता होती है।

आज हम मेंढक मुद्रा का अभ्यास करने का तरीका, इसके लाभ और इसे करते समय ध्यान रखने योग्य सावधानियों के बारे में जानेंगे।

मेंढक मुद्रा का अभ्यास

फ्रॉग पोस्चर का अभ्यास करने के लिए, इन चरण-दर-चरण निर्देशों का पालन करें:

चरण 1: एक आरामदायक योगा मैट या नरम सतह पर अपने पेट के बल लेट कर शुरुआत करें।

चरण 2: अपनी हथेलियों को अपने कंधों के पास फर्श पर रखें, अपनी कोहनी मुड़ी हुई और ऊपर की ओर इशारा करते हुए।

चरण 3: अपने घुटनों को मोड़ें और अपने पैरों को अपने नितंबों के पास लाएं। अपने पैरों को हिप-चौड़ा अलग रखें।

youtube-cover

चरण 4: दोनों हाथों से पीछे की ओर पहुंचें और अपने टखनों या पैरों को पकड़ लें। यदि आप उन तक नहीं पहुंच सकते हैं, तो अंतर को पाटने के लिए एक पट्टा का उपयोग करें।

चरण 5: गहरी सांस लें और अपनी छाती को फर्श से ऊपर उठाएं, अपनी पीठ को झुकाएं। प्रतिरोध पैदा करते हुए अपने पैरों को अपने हाथों में दबाएं।

चरण 6: जैसे ही आप अपनी छाती को ऊपर उठाते हैं, अपने सिर को धीरे से पीछे की ओर झुकाने दें

चरण 7: मुद्रा को 30 सेकंड से एक मिनट तक रोकें, गहरी और समान रूप से सांस लें।

चरण 8: मुद्रा को छोड़ने के लिए, धीरे-धीरे अपनी छाती को नीचे करें, अपने पैरों पर अपनी पकड़ छोड़ें और अपने पैरों को सीधा करें। आराम करने के लिए बाल मुद्रा (बालासन) में आराम करें।

मेंढक आसन के लाभ

छाती और कंधों को खोलता है:

मेंढक आसन छाती का विस्तार करने और कंधों और ऊपरी पीठ में मांसपेशियों को फैलाने में मदद करता है, बेहतर आसन को बढ़ावा देता है और उन क्षेत्रों में तनाव से राहत देता है।

जांघों और कूल्हे के फ्लेक्सर्स को स्ट्रेच करता है:

यह आसन क्वाड्रिसेप्स, हिप फ्लेक्सर्स और पेसो की मांसपेशियों को गहराई से फैलाता है, जो लंबे समय तक बैठने या शारीरिक गतिविधियों के कारण तंग हो सकते हैं। यह निचले शरीर में लचीलापन बढ़ाने में मदद करता है।

पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करता है:

छाती को ऊपर उठाकर और पीठ को झुकाकर, फ्रॉग पोस्चर इरेक्टर सहित पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करता है, जिससे रीढ़ की हड्डी के समर्थन और स्थिरता में सुधार करने में मदद मिलती है।

पाचन को बढ़ावा देता है:

इस मुद्रा में पेट का संपीड़न पाचन अंगों को उत्तेजित करता है, पाचन में सुधार करता है और पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करता है।

मंडूकासन योग!
मंडूकासन योग!

हृदय केंद्र को खोलता है और सक्रिय करता है:

मेंढक आसन को हृदय चक्र (अनाहत) को सक्रिय करने, प्रेम, करुणा और खुलेपन की भावनाओं को बढ़ावा देने के लिए कहा जाता है।

समग्र लचीलापन बढ़ाता है:

मेंढक आसन का नियमित अभ्यास पूरे शरीर के लचीलेपन को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे अन्य योग आसन अधिक सुलभ हो जाते हैं।

सावधानियां और मतभेद

सावधानी के साथ अभ्यास करना और निम्नलिखित सावधानियों पर विचार करना आवश्यक है:

यदि गर्भवती हैं या हाल ही में पेट की सर्जरी हुई है तो इससे बचें:

गर्भवती महिलाओं को फ्रॉग आसन से बचना चाहिए, क्योंकि यह पेट पर दबाव डालता है। जिन व्यक्तियों की हाल ही में पेट की सर्जरी हुई है उन्हें भी इस आसन से बचना चाहिए।

घुटने और कूल्हे की चोटों से सावधान रहें:

यदि आपके घुटने या कूल्हे की चोट है, तो मुद्रा को पूरी तरह से टालना महत्वपूर्ण है। अपने शरीर को सुनें और किसी भी दर्द या परेशानी से बचें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now