Create

हड्डियों के कमजोर होने के 5 संकेत, हो जाएँ सावधान 

हड्डियों के कमजोर होने के 5 संकेत, हो जाएँ सावधान
हड्डियों के कमजोर होने के 5 संकेत, हो जाएँ सावधान
Shilki

जैसे- जैसे उम्र बढ़ती है हड्डियों का कमजोर होना भी शुरू हो जाता है। लेकिन आजकल के समय में हड्डियों का कमजोर होना उम्र पर निर्भर नहीं करता है। बल्कि बदलती जीवनशैली के चलते आजकल कम उम्र में ही हड्डियों (Bones) का कमजोर होना शुरू हो गया है। पहले के समय में जब व्यक्ति बूढ़ा होता था तब उसकी हड्डियां कमजोर पड़त थी। लेकिन अब ये अभी से लोगों में ये समस्या दिखने लगी है। लेकिन आपको बता दें कि इस समस्या से बचा जा सकता है यदि आप पहले ही हड्डियों के कमजोर होने का लक्षण जान लें।

हड्डियों के कमजोर होने के 5 संकेत, हो जाएँ सावधान - Haddiyo Ke Kamjor Hone Ke 5 Sanket, Ho Jaye Savdhan In Hindi

हड्डियों का चटकना (Cracking of bones) - हड्डियों का कमजोर होने का सबसे बड़ा संकेत ये है कि हड्डियों की चटकने की आवाज। अगर आपकी हड्डियां जोड़ों से बहुत ज्यादा चटकने लगी हैं, तो इसका मतलब समझ जाइए कि आपकी हड्डियां कमजोर पड़ रही हैं। अगर ये समस्या बहुत ज्यादा हो रही है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

फ्रैक्चर होना (To be fractured) - हड्डियों में यदि फ्रैक्चर होने लगे तो समझ जाएं की आपकी हड्डियां कमजोर होने लगी हैं। फ्रैक्चर लेकिन ऐसा कि आपको थोड़ा सा कुछ लगे और उसमें आपकी हड्डियों में फ्रैक्चर आजाए। ऐसी स्थिति में सावधान हो जाएं।

कमर और घुटनों का दर्द होना (Back and knee pain) - घुटने और कमर में अक्सर तभी दर्द होता है जब हड्डियां ज्यादा वजन नहीं झेल पाती है। अगर ये समस्या आपको है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। क्योंकि ये कोई नार्मल बात नहीं है कि आपको घुटनों और कमर में दर्द हो।

ग्रिप न बनना (Not being a grip) - हड्डियों में कमजोरी का एक और कारण होता है, वो है आसानी से ग्रिप न बनना। यदि हम कोई सामान उठाते हैं, तो हमारे हाथ में आसानी से ग्रिप नहीं बन पाती। इससे हड्डी के कमजोर होने का संकेत मिलता है।

मसूड़ों की समस्या (Gum problems) - जब हड्डियां कमजोर होने लगती हैं, तो मसूड़ों में भी दिक्कत होना शुरू हो सकती है। मसूड़ों से दांत बाहर निकलना Tooth out from gums जैसे स्थितियों को भी कमजोर हड्डियों से जोड़ा जाता है। जब शरीर में कैल्शियम की कमी होती है, तो हड्डियां कमजोर होती है। इसके साथ ही मसूड़ों से जुड़ी समस्याएं भी सामने आती हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Shilki

Comments

comments icon
Fetching more content...