अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के लिए रखें संवेदनशील व्यक्तित्व जानिए कैसे और क्यूँ?

Have a sensitive personality for good mental health, know how and why?
अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के लिए रखें संवेदनशील व्यक्तित्व जानिए कैसे और क्यूँ?

संवेदनशील होना अच्छा है ख़ासकर तब जब हमे इस बात का ज्ञात हो की हम लोगों को और उनकी भावनाओ को सकारात्मक रूप से समझते और उनकी कदर करतें हैं. लोग भी संवेदनशील व्यक्तिव के लोगों के साथ जुड़ना और अपनी ख़ास और गुप्त बातों को साझा करने से परहेज नही करतें. इस व्यक्तित्व के लोग अति अच्छे और साफ़ दिल के माने जातें है. जिसके चलते ये अपने दिल में कोई नकारात्मक उर्जा या बात को घर नही होने देतें हैं. जिसका साफ़ और सीधा प्रभाव ऐसे लोगों के अच्छे मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ता है जो उन्हें मानसिक रूप से मजबूत और स्वस्थ बनाये रखता है.

आप एक संवेदनशील व्यक्तित्व रखतें है इसमें कोई बुराई नही पर ये एक चेतावनी संकेत है “यदि संवेदनशील होना आपको एक बड़ी परेशानी का हिस्सा बना सकता है तो इसमें चिंता और अवसाद के साथ कई और मानसिक समस्याएं आ सकतीं है”. पर यदि आप अपने आप पर और अपने संवेदनशील व्यक्तित्व पर रखंगे बुनियादी कण्ट्रोल तो ये रहेगी एक स्वस्थ आदत जानिए क्या कारण.

निम्नलिखित बिन्दुओं को आजमाएं और एक स्वस्थ आदत के साथ रहे सकारात्मक तौर पर संवेदनशील

1. रहें खुले दिल

रहें खुले दिल!
रहें खुले दिल!

जो वास्तव में हैं उसके प्रति खुले दिल होना एक अच्छे व्यक्तित्व की निशानी है. अपनी बात मनवाने या अपनी कहानियाँ साझा करने के लिए अपने जीवन के बारे में कमजोर विवरण बताने से भी नहीं कतराना एक अच्छे आदत में शुमार है। जो आपको दूसरों से इतना अनोखा और विशिष्ट बनाता है, वह है खुले रहने की उनकी ताकत क्योंकि वे अपने दिल को अपनी आस्तीन पर पहनने से डरते नहीं हैं और जैसा है वैसा ही बताते हैं।

2. स्वयं जागरूक रहें

पर्यावरण के प्रति जागरुक रहेना ज़रूरी है। अपनी भावनाओं से अवगत रहें और सकारात्मक, ईमानदार तरीके से खुद को कैसे अभिव्यक्त करें। घमंड, लालच और शोहरत की चाह से भरी दुनिया में स्थिर रहें। सकारात्मक शौक और कारणों पर ध्यान दें।

"संवेदनशील होना" अच्छा है पर "अति संवेदनशील" होना खतरनाक हो सकता है जानिये इस विडियो में!

youtube-cover

3. दूसरों को खुश करने की कोशिश में खुद पर दबाव न डालें

दूसरों को प्रसन्न करना मनुष्य की स्वाभाविक प्रवृत्ति है। मनुष्य अक्सर अपने जीवन और या कार्यों को मान्य करने के लिए अपनी साथी की हर बात पर हामी भरते हुए वो सब कर लेतें हैं जो वे स्वयं नही करना चाहते. ये अटपटी सी भावना आपको अपने प्रति धोखे की अनुभूति करवाता है जो आपके स्वास्थ्य मानसिक स्वास्थ्य के लिए ठीक नही.

4. ना समझ गतिविधियों से बचें

अपने फोन पर स्क्रॉल करना सबसे आम व्याकुलता है जो आपको अपने अकेले समय में दिमाग लगाने से रोकता है इसलिए इस तरह की गतिविधियों से बचना सबसे अच्छा है। अपने साथ समय बिताते समय आपको वास्तव में जानबूझकर दूर रहना होगा क्योंकि इस तरह आप अपने समय का अधिकतम लाभ उठा सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।:ा है.

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now