Create

टाइफाइड का घरेलू इलाज: Typhoid Ka Gharelu Ilaaj 

टाइफाइड होने पर परेशानियाँ दोगुनी हो जाती हैं क्योंकि दो बार होने वाले इस बुखार का प्रभाव हर बार बढ़ जाता है। (फोटो: The Health Site)
टाइफाइड होने पर परेशानियाँ दोगुनी हो जाती हैं क्योंकि दो बार होने वाले इस बुखार का प्रभाव हर बार बढ़ जाता है। (फोटो: The Health Site)

टाइफाइड एक ऐसा बुखार है जो रुक रुक कर आता है और आपके जीवन काल में अगर आपको कभी टाइफाइड हुआ है तो ये दो बार जरूर होगा। ये टाइफाइड के साथ एक बड़ा सत्य है जिसे लोग ध्यान में नहीं रखते हैं। इसके होने पर खाने के साथ ही उलटी होना, सर चकराना और महिलाओं को अपनी पेशाब में भी परेशानी देखने को मिलती है।

इसका ये अर्थ नहीं है कि ये लक्षण पुरुषों को नहीं देखने को मिलते हैं। आप चाहें तो अपनी सेहत को खराब कर सकते हैं या तुरंत ही इसका उपचार कर सकते हैं। इसके लिए आपको बस अपने नजदीकी डॉक्टर को दिखाना होगा और एक टेस्ट से ही इस बात का प्रमाण मिल जाएगा कि आपको टाइफाइड है या नहीं।

इसको एक अलग नाम से भी बुलाया जाता है इसलिए अगर डॉक्टर आपको किसी अन्य टेस्ट को करने को कहे तो घबराइएगा नहीं क्योंकि वो बस ये देखना चाहते हैं कि आपको टाइफाइड है या आप किसी अन्य बीमारी से परेशान हैं। पेट सही होना किसी भी बीमारी को दूर रखने का पहला कदम है। आइए आपको उन घरेलू नुस्खों के बारे में बताते हैं जो आपको टाइफाइड से बचा सकते हैं।

टाइफाइड का घरेलू इलाज: Typhoid Ka Gharelu Ilaaj

सेब के जूस में अदरक मिलाकर पिएं: Apple Juice and Ginger

जी हाँ, सेब के जूस में अगर आप अदरक मिला देते हैं तो उससे आपको काफी लाभ होगा। इन दोनों के मिश्रण से आपकी सेहत अच्छी रहेगी और आपको जो आनंद प्राप्त होगा उसको शब्दों में बयान करना मुश्किल है। अदरक में एंटी ऑक्सीडेंट (Anti Oxidant) गुण होते हैं जो हर बीमारी को ठीक करने में कारगर हैं।

लहसुन की कलियाँ और घी: Garlic and Ghee

घी को बेहद सम्मान के साथ देखा जाता है। ऐसे में अगर आप अपनी सेहत को ठीक रखना चाहते हैं और टाइफाइड को जड़ से खत्म करना चाहते हैं तो इसकी 6 से 7 कलियों को घी में भुन लें। अब इसका सेवन करने से आपको लाभ होगा क्योंकि लहसुन और घी दोनों ही एंटी बायोटिक (Anti Biotic), एंटी ऑक्सीडेंट तत्व होते हैं। वहीं लहसुन की तासीर गर्म तो घी की तासीर नार्मल होती है।

लौंग और पानी: Clove and water

लौंग और पानी का साथ आना आपकी सेहत के लिए अच्छा है। लौंग के कारण आपको बीमारियों से लड़ने की ताकत मिलेगी और इसको करने के लिए आप लौंग को 6 से 7 की मात्रा में पानी में उबाल लें। इसका पानी जब आधा हो जाए तो आप उसका सेवन करें। इससे कमोजरी भी दूर हो जाएगी।

(डिस्क्लेमर: प्रस्तुत लेख में सुझाए गए टिप्स और सलाह केवल आम जानकारी के लिए है, इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रुप में नहीं लिया जा सकता। कोई भी स्टेप लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर कर लें।)

Edited by Amit Shukla
Be the first one to comment