वायु प्रदूषण दिल के दौरे, स्ट्रोक से कैसे जुड़ा है?

How Air Pollution Linked To Heart Attack, Stroke?
वायु प्रदूषण दिल के दौरे, स्ट्रोक से कैसे जुड़ा है?

वायु प्रदूषण, एक बढ़ती वैश्विक चिंता, मानव स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण जोखिम पैदा करता है। हाल के अध्ययनों से पता चला है कि वायु प्रदूषण और दिल के दौरे और स्ट्रोक जैसी हृदय संबंधी बीमारियों के बीच एक मजबूत संबंध है।

इसलिए आज हम बतायेंगे की कैसे वायु प्रदूषण हृदय प्रणाली को प्रभावित करता है, इसमें शामिल प्रमुख प्रदूषक और सार्वजनिक स्वास्थ्य पर इसका प्रभाव क्या है , ध्यान दें:-

कनेक्शन को समझना:

वैज्ञानिक प्रमाणों से लगातार पता चला है कि वायु प्रदूषण के लंबे समय तक संपर्क में रहने से दिल के दौरे और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। सूक्ष्म कण पदार्थ (PM2.5) और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (NO2) और ओजोन (O3) जैसे गैसीय प्रदूषक विशेष रूप से हानिकारक हैं। ये प्रदूषक श्वसन तंत्र के माध्यम से रक्तप्रवाह में प्रवेश करते हैं और जैविक प्रतिक्रियाओं का एक समूह शुरू करते हैं, जिससे सूजन, ऑक्सीडेटिव तनाव और संवहनी शिथिलता को बढ़ावा मिलता है। समय के साथ, ये प्रभाव हृदय रोगों के विकास और प्रगति में योगदान करते हैं।

सूजन संबंधी प्रतिक्रिया और ऑक्सीडेटिव तनाव:

सूजन एथेरोस्क्लेरोसिस के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, जो दिल के दौरे और स्ट्रोक का अंतर्निहित कारण है। प्रदूषक ऑक्सीडेटिव तनाव, हानिकारक मुक्त कणों और शरीर की एंटीऑक्सीडेंट रक्षा के बीच असंतुलन उत्पन्न करते हैं। यह ऑक्सीडेटिव तनाव रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है, रक्त के थक्कों के निर्माण को बढ़ावा देता है और एथेरोस्क्लेरोसिस की प्रगति को तेज करता है।

वायु प्रदूषण के संपर्क में!
वायु प्रदूषण के संपर्क में!

रोग और रक्तचाप:

वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से रक्त वाहिकाओं की कार्यप्रणाली ख़राब हो जाती है, जिससे आवश्यकतानुसार उनके फैलने और सिकुड़ने की क्षमता कम हो जाती है। यह एंडोथेलियल डिसफंक्शन रक्त प्रवाह को बाधित करता है, रक्तचाप बढ़ाता है और रक्त के थक्कों के निर्माण में योगदान देता है। उच्च रक्तचाप दिल के दौरे और स्ट्रोक के लिए एक महत्वपूर्ण जोखिम कारक है, और वायु प्रदूषण रक्तचाप के स्तर को और बढ़ाकर इस जोखिम को बढ़ा देता है।

कमज़ोर आबादी पर प्रभाव:

youtube-cover

कुछ समूह, जैसे कि बुजुर्ग, पहले से मौजूद हृदय संबंधी समस्याओं वाले व्यक्ति, और घनी आबादी वाले शहरी क्षेत्रों में रहने वाले लोग, विशेष रूप से वायु प्रदूषण के प्रतिकूल प्रभावों के प्रति संवेदनशील हैं। लंबे समय तक संपर्क में रहने से रोग की प्रगति तेज हो सकती है और हृदय संबंधी घटनाओं की संभावना बढ़ सकती है।

सार्वजनिक स्वास्थ्य:

सार्वजनिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप के लिए वायु प्रदूषण और हृदय रोगों के बीच संबंध को पहचानना महत्वपूर्ण है। प्रभावी वायु गुणवत्ता नियमों को लागू करना, वाहनों और औद्योगिक स्रोतों से उत्सर्जन को कम करना और स्वच्छ ऊर्जा विकल्पों को बढ़ावा देना प्रदूषण के स्तर को काफी कम कर सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now