भावनात्मक दर्द को कम करने में हम अपनी मदद कैसे कर सकते हैं?

How can we help ourselves to reduce emotional pain?
भावनात्मक दर्द को कम करने में हम अपनी मदद कैसे कर सकते हैं?

भावनात्मक दर्द कठिन या परेशान करने वाली स्थितियों, जैसे नुकसान, अस्वीकृति, या आघात के लिए एक स्वाभाविक प्रतिक्रिया है। हालांकि इससे निपटना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, भावनात्मक दर्द की तीव्रता और अवधि को कम करने के तरीके हैं।

यहाँ कुछ रणनीतियाँ हैं जो मदद कर सकती हैं।

अपनी भावनाओं को स्वीकार करें और स्वीकार करें

भावनात्मक दर्द को कम करने में पहला कदम अपनी भावनाओं को स्वीकार करना है। जब आप कठिन समय से गुजर रहे हों तो उदास, क्रोधित या चिंतित महसूस करना सामान्य है। अपनी भावनाओं को दबाने की कोशिश करने के बजाय खुद को उन्हें महसूस करने दें। अपने प्रति दयालु बनने की कोशिश करें और याद रखें कि ठीक न होना ठीक है।

माइंडफुलनेस का अभ्यास करें

youtube-cover

माइंडफुलनेस भावनात्मक दर्द को कम करने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण है। वर्तमान क्षण पर ध्यान केंद्रित करके और बिना किसी निर्णय के अपने विचारों और भावनाओं को देखते हुए, आप अपनी भावनाओं पर अधिक नियंत्रण प्राप्त कर सकते हैं। माइंडफुलनेसआपको आत्म-जागरूकता की एक बड़ी भावना विकसित करने में भी मदद कर सकती है, जो आपके भावनात्मक दर्द के अंतर्निहित कारणों को पहचानने और उनका समाधान करने में आपकी सहायता कर सकती है।

आत्म-देखभाल में संलग्न हों

आत्म-देखभाल भावनात्मक भलाई का एक अनिवार्य पहलू है। अच्छा खाना खाकर, पर्याप्त नींद लेकर और नियमित रूप से व्यायाम करके अपने शारीरिक स्वास्थ्य का ख्याल रखना भावनात्मक दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। जिन गतिविधियों में आप आनंद लेते हैं, जैसे कि शौक या प्रियजनों के साथ समय बिताना, आपके मूड को बेहतर बनाने और तनाव को कम करने में मदद कर सकता है।

समर्थन मांगें

समर्थन मांगें!
समर्थन मांगें!

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि आपको अकेले भावनात्मक दर्द से नहीं गुजरना है। दोस्तों, परिवार, या मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से सहायता लेने से आपको अपनी भावनाओं को संसाधित करने और मुकाबला करने की रणनीति विकसित करने में मदद मिल सकती है। यदि आप भावनात्मक दर्द से निपटने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, तो सहायता के लिए संपर्क करने में संकोच न करें।

आत्म-करुणा का अभ्यास करें

आत्म-करुणा अपने आप को उसी दयालुता और समझ के साथ व्यवहार करने के बारे में है जो आप किसी मित्र को पेश करेंगे। जब आप भावनात्मक दर्द से गुज़र रहे होते हैं, तो अपने आप पर कठोर होना और जो हो रहा है उसके लिए खुद को दोष देना आसान होता है। आत्म-करुणा का अभ्यास करने से आपको अपने साथ अधिक सकारात्मक और सहायक संबंध विकसित करने में मदद मिल सकती है।

सकारात्मक आत्म-चर्चा में व्यस्त रहें

जिस तरह से आप खुद से बात करते हैं, उसका आपकी भावनात्मक भलाई पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है। सकारात्मक आत्म-चर्चा में शामिल होने से आपको नकारात्मक विचारों और भावनाओं को अधिक रचनात्मक तरीके से सुधारने में मदद मिल सकती है। आत्म-आलोचनात्मक विचारों को अधिक सकारात्मक और सशक्त विचारों से बदलने का प्रयास करें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now