चिंता आपके शरीर को कैसे बुरी तरह प्रभावित करती है?

how does anxiety affect your body badly?
चिंता आपके शरीर को कैसे बुरी तरह प्रभावित करती है?

चिंता तनाव के प्रति एक स्वाभाविक प्रतिक्रिया है, और यह कुछ स्थितियों में मददगार हो सकती है। हालाँकि, जब चिंता पुरानी या भारी हो जाती है, तो इसका आपके शरीर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। चिंता आपके हृदय प्रणाली से लेकर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली तक, आपके शरीर में हर प्रणाली को प्रभावित कर सकती है।

हम पता लगाएंगे कि चिंता आपके शरीर को कैसे प्रभावित करती है और चिंता को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करना क्यों महत्वपूर्ण है।

चिंता के शारीरिक प्रभावों को अक्सर कम करके आंका जाता है।

चिंता शारीरिक लक्षणों की एक विस्तृत श्रृंखला का कारण बन सकती है, जिसमें सिरदर्द, मांसपेशियों में तनाव, सीने में दर्द, दिल की धड़कन और पाचन संबंधी समस्याएं शामिल हैं। ये लक्षण आपके शरीर की "लड़ाई या उड़ान" प्रतिक्रिया का परिणाम हैं, जो चिंता से शुरू होता है।

youtube-cover

जब आप चिंतित महसूस करते हैं, तो आपका शरीर एड्रेनालाईन और कोर्टिसोल जैसे हार्मोन रिलीज करता है। ये हार्मोन आपकी हृदय गति को बढ़ाते हैं, आपके रक्तचाप को बढ़ाते हैं, और आपकी मांसपेशियों में तनाव पैदा करते हैं। यह प्रतिक्रिया आपके शरीर को खतरे से निपटने के लिए तैयार करने के लिए डिज़ाइन की गई है, लेकिन जब चिंता पुरानी हो जाती है, तो यह आपके शरीर पर दबाव डाल सकती है।

हृदय रोग का जोखिम

हृदय रोग का जोखिम!
हृदय रोग का जोखिम!

प्रतिरक्षा प्रणाली हो जाती है प्रभावित

चिंता आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी प्रभावित कर सकती है। जब आप चिंतित होते हैं, तो आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली संक्रमणों और बीमारियों से लड़ने में कम प्रभावी होती है। पुरानी चिंता भी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को अति सक्रिय बना सकती है, जिससे ल्यूपस या रूमेटोइड गठिया जैसे ऑटोम्यून्यून विकार हो सकते हैं।

पाचन तंत्र हो जाता है प्रभावित

चिंता आपके पाचन तंत्र को भी प्रभावित कर सकती है। जब आप चिंतित होते हैं, तो आपका शरीर रक्त को आपके पाचन तंत्र से दूर आपकी मांसपेशियों और मस्तिष्क की ओर मोड़ देता है। इससे पेट में ऐंठन, दस्त और कब्ज जैसी पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। पुरानी चिंता से चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (IBS) भी हो सकता है, एक पुरानी स्थिति जो पेट में दर्द, सूजन और आंत्र की आदतों में बदलाव का कारण बनती है।

नींद में खलल

एक और तरीका जिससे चिंता आपके शरीर को प्रभावित कर सकती है वह है आपकी नींद में खलल डालना। जब आप चिंतित होते हैं, तो आपका मन चिंताओं और चिंताओं से दौड़ सकता है, जिससे नींद आना या सोते रहना मुश्किल हो जाता है। लंबे समय तक नींद की कमी आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है, जिससे थकान, चिड़चिड़ापन और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई हो सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now