शरीर की ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए डिजिटल डिटॉक्स कितना मददगार है?

How helpful is digital detox to boost the body
शरीर की ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए डिजिटल डिटॉक्स कितना मददगार है?

आज की दुनिया में, हम पर लगातार डिजिटल उपकरणों और स्क्रीन की बमबारी हो रही है। स्मार्टफोन से लेकर लैपटॉप तक, हमारा जीवन प्रौद्योगिकी द्वारा उपभोग किया जाता है। जबकि प्रौद्योगिकी ने निस्संदेह हमारे जीवन को आसान और अधिक कुशल बना दिया है, इसके कई नकारात्मक परिणाम भी हुए हैं, जिनमें शारीरिक गतिविधि में कमी, नींद के पैटर्न में बाधा और तनाव और चिंता में वृद्धि शामिल है।

नतीजतन, बहुत से लोग अपने शरीर की ऊर्जा और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के तरीके के रूप में डिजिटल विषहरण की ओर रुख कर रहे हैं। डिजिटल डिटॉक्सिफिकेशन में तकनीक से ब्रेक लेना शामिल है, या तो थोड़े समय के लिए या विस्तारित अवधि के लिए। इस दौरान लोग अपने उपकरणों से डिस्कनेक्ट हो जाते हैं और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाली गतिविधियों में शामिल होने पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

youtube-cover

डिजिटल डिटॉक्सिफिकेशन के सबसे महत्वपूर्ण लाभों में से एक है ऊर्जा का स्तर बढ़ना।

जब हम स्क्रीन के सामने बहुत अधिक समय बिताते हैं, तो हम कम शारीरिक गतिविधि का अनुभव करते हैं, जिससे थकान और सुस्ती हो सकती है। प्रौद्योगिकी से ब्रेक लेकर, हम शारीरिक गतिविधियों के साथ फिर से जुड़ने में सक्षम होते हैं जो हमारे ऊर्जा के स्तर को बढ़ाते हैं।

उदाहरण के लिए, सोशल मीडिया पर स्क्रॉल करने में एक घंटा बिताने के बजाय, हम टहलने जा सकते हैं या अन्य प्रकार की शारीरिक गतिविधियों में संलग्न हो सकते हैं। यह बढ़ी हुई शारीरिक गतिविधि न केवल अल्पावधि में हमारे ऊर्जा स्तर को बढ़ाती है बल्कि समग्र स्वास्थ्य में दीर्घकालिक सुधार भी ला सकती है।

डिजिटल डिटॉक्सिफिकेशन से नींद के पैटर्न में भी सुधार हो सकता है।

हममें से कई लोग देर रात तक अपने फोन या लैपटॉप को स्क्रॉल करते रहने के दोषी हैं, जो हमारे प्राकृतिक नींद चक्र को बाधित कर सकता है। स्क्रीन द्वारा उत्सर्जित नीली रोशनी मेलाटोनिन के उत्पादन में हस्तक्षेप कर सकती है, एक हार्मोन जो नींद को नियंत्रित करता है। प्रौद्योगिकी से विराम लेकर, हम अपने शरीर को अपने प्राकृतिक नींद के पैटर्न को रीसेट करने का अवसर दे सकते हैं।

नींद के पैटर्न में भी सुधार!
नींद के पैटर्न में भी सुधार!

बेहतर नींद के पैटर्न से न केवल ऊर्जा के स्तर में वृद्धि होती है बल्कि इससे संज्ञानात्मक कार्य और समग्र मनोदशा में भी सुधार हो सकता है। अध्ययनों से पता चला है कि पर्याप्त नींद लेने वाले व्यक्ति ध्यान केंद्रित करने, बेहतर निर्णय लेने और कम चिंता और अवसाद का अनुभव करने में सक्षम होते हैं।

तनाव के स्तर को कम करना है।

सूचनाओं, ईमेल और सोशल मीडिया अपडेट के निरंतर बैराज से लगातार "प्लग इन" होने का अहसास हो सकता है, जो तनाव के स्तर को बढ़ाने में योगदान कर सकता है। प्रौद्योगिकी से विराम लेकर, हम सूचना के निरंतर प्रवाह से डिस्कनेक्ट करने में सक्षम होते हैं और अपने मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देने के लिए समय निकालते हैं।

डिजिटल डिटॉक्स के दौरान, व्यक्ति ध्यान, योग या जर्नलिंग जैसी गतिविधियों में संलग्न हो सकते हैं, जो तनाव और चिंता के स्तर को कम करने के लिए दिखाए गए हैं। अपने मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देने के लिए समय निकालकर, हम तनाव को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने और समग्र मनोदशा में सुधार करने में सक्षम होते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
Be the first one to comment