दिल से जुड़ी बीमारियों के लिए मेंटल हेल्थ कैसे जिम्मेदार हो सकता है?

How mental health can be responsible for heart diseases?
दिल से जुड़ी बीमारियों के लिए मेंटल हेल्थ कैसे जिम्मेदार हो सकता है?

मानसिक स्वास्थ्य को लंबे समय से समग्र कल्याण के एक महत्वपूर्ण पहलू के रूप में मान्यता दी गई है। हालांकि, हाल के शोध से पता चला है कि मानसिक स्वास्थ्य भी दिल से जुड़ी बीमारियों के लिए जिम्मेदार हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि मानसिक स्वास्थ्य और हृदय स्वास्थ्य आपस में जुड़े हुए हैं, और एक दूसरे को महत्वपूर्ण तरीकों से प्रभावित कर सकता है।

तनाव के प्रभाव

youtube-cover

तनाव जीवन का एक सामान्य हिस्सा है और समय-समय पर हर कोई इसका अनुभव करता है। हालांकि, पुराना तनाव मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों के लिए हानिकारक हो सकता है। जब हम तनाव का अनुभव करते हैं, तो हमारे शरीर में कोर्टिसोल और एड्रेनालाईन जैसे हार्मोन रिलीज होते हैं। ये हार्मोन हमारे शरीर को लड़ाई या उड़ान प्रतिक्रिया, हृदय गति, रक्तचाप और रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाने के लिए तैयार करते हैं। समय के साथ, पुराने तनाव से सूजन, उच्च रक्तचाप और अन्य कारक हो सकते हैं जो हृदय रोग के जोखिम को बढ़ाते हैं।

जीवनशैली

जो लोग अवसाद या चिंता जैसे मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों से जूझते हैं, उनके अस्वास्थ्यकर व्यवहार जैसे धूम्रपान, अधिक भोजन करना, या ड्रग्स या शराब का उपयोग करने की संभावना अधिक हो सकती है। इन व्यवहारों का हृदय स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, जिससे हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है।

नींद के पैटर्न

नींद के पैटर्न!
नींद के पैटर्न!

नींद के पैटर्न के माध्यम से मानसिक स्वास्थ्य भी हृदय स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। जो लोग मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों से जूझते हैं उन्हें सोने में कठिनाई हो सकती है, जिससे हृदय रोग सहित कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। खराब नींद को उच्च रक्तचाप, सूजन और हृदय रोग में योगदान देने वाले अन्य कारकों के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है।

शोध से यह भी पता चला है कि

कुछ मानसिक स्वास्थ्य विकारों और हृदय रोग के बीच सीधा संबंध है। उदाहरण के लिए, अवसाद से ग्रस्त लोगों में बिना अवसाद वाले लोगों की तुलना में हृदय रोग का अनुभव होने की संभावना अधिक होती है। अवसाद सूजन से जुड़ा हुआ है, जो रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है और हृदय रोग का कारण बन सकता है। इसके अलावा, अवसाद से ग्रस्त लोगों में व्यायाम और स्वस्थ आहार जैसे स्वस्थ व्यवहारों में संलग्न होने की संभावना कम हो सकती है, जो हृदय रोग में भी योगदान दे सकते हैं।

चिंता एक अन्य मानसिक स्वास्थ्य विकार है जिसे हृदय रोग से जोड़ा गया है।

चिंता से ग्रस्त लोग कई प्रकार के शारीरिक लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं, जिनमें हृदय गति और रक्तचाप में वृद्धि शामिल है, जो हृदय रोग के विकास में योगदान कर सकते हैं। इसके अलावा, चिंता अक्सर परिहार व्यवहार से जुड़ी होती है, जैसे व्यायाम या सामाजिक स्थितियों से बचना, जो हृदय रोग के जोखिम को भी बढ़ा सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा