नकारात्मक आत्म-चर्चा हमारे जीवन और करियर को कैसे बर्बाद कर सकती है?

How negative self-talk can demolish our life and career?
नकारात्मक आत्म-चर्चा हमारे जीवन और करियर को कैसे बर्बाद कर सकती है?

नकारात्मक आत्म-चर्चा स्वयं की आलोचना करने या नकारात्मक आत्म-निर्णय में संलग्न होने का कार्य है। इसे आंतरिक आवाज के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जो आपको बताती है कि आप काफी अच्छे नहीं हैं या आप असफल हैं। नकारात्मक आत्म-चर्चा विनाशकारी है, और यह आपके व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन दोनों पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है।

आज हम चर्चा करेंगे कि कैसे नकारात्मक आत्म-चर्चा आपके जीवन और करियर को कम कर सकती है और आप इसे कैसे दूर कर सकते हैं।

नकारात्मक आत्म-चर्चा आत्मविश्वास की कमी का कारण बन सकती है

जब आप नकारात्मक आत्म-चर्चा में संलग्न होते हैं, तो आप अपनी क्षमताओं पर संदेह करना शुरू कर देते हैं और अपनी योग्यता पर सवाल उठाते हैं। इससे आपकी क्षमताओं में विश्वास की कमी हो सकती है, और आप उन अवसरों से बचना शुरू कर सकते हैं जो आपको व्यक्तिगत और व्यावसायिक रूप से बढ़ने में मदद कर सकते हैं।

youtube-cover

नकारात्मक आत्म-चर्चा चिंता और अवसाद का कारण बन सकती है

नकारात्मक आत्म-चर्चा चिंता और अवसाद की भावनाओं को जन्म दे सकती है। जब आप लगातार अपनी आलोचना करते हैं, तो आप निराश और असहाय महसूस करने लगते हैं। इससे प्रेरणा और उत्पादकता में कमी आ सकती है। चिंता और अवसाद का आपके व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है, और यदि आप इन लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं तो मदद लेना महत्वपूर्ण है।

नकारात्मक आत्म-चर्चा आपके रिश्तों को प्रभावित कर सकती है

आत्म-चर्चा आपके रिश्तों को करें प्रभावित!
आत्म-चर्चा आपके रिश्तों को करें प्रभावित!

नकारात्मक आत्म-चर्चा दूसरों के साथ आपके संबंधों को प्रभावित कर सकती है। जब आप लगातार स्वयं की आलोचना करते हैं, तो आप अधिक आत्मकेंद्रित और दूसरों के प्रति कम सहानुभूति रखने वाले हो सकते हैं। इससे दोस्तों, परिवार और सहकर्मियों के साथ तनावपूर्ण संबंध बन सकते हैं। इसके अतिरिक्त, नकारात्मक आत्म-चर्चा आपको खुद को अलग-थलग करने का कारण बन सकती है, जो आपके रिश्तों को और नुकसान पहुंचा सकती है।

नकारात्मक आत्म-चर्चा विलंब का कारण बन सकती है

जब आप नकारात्मक आत्म-चर्चा में संलग्न होते हैं, तो आप कार्यों को पूरा करने या अपने लक्ष्यों तक पहुँचने की अपनी क्षमता पर संदेह करना शुरू कर सकते हैं। इससे विलंब हो सकता है, जैसा कि आप महसूस कर सकते हैं कि कोशिश करने का कोई मतलब नहीं है। प्रोक्रैस्टिनेशन का आपकी उत्पादकता पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है और इससे छूटे हुए अवसर पैदा हो सकते हैं।

नकारात्मक आत्म-चर्चा से इम्पोस्टर सिंड्रोम हो सकता है

इम्पोस्टर सिंड्रोम यह भावना है कि आप उस स्थिति के लिए योग्य नहीं हैं जो आप धारण करते हैं या आपने योग्यता के बजाय भाग्य से सफलता प्राप्त की है। नकारात्मक आत्म-चर्चा ढोंग सिंड्रोम में योगदान कर सकती है, क्योंकि आप अपनी क्षमताओं पर संदेह करना शुरू कर सकते हैं और सवाल कर सकते हैं कि क्या आप अपनी सफलता के लायक हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा