प्रसव के बाद अपने मानसिक स्वास्थ्य की रक्षा कैसे करें: मानसिक स्वास्थ्य

How to protect your mental health after delivery: Mental health
प्रसव के बाद अपने मानसिक स्वास्थ्य की रक्षा कैसे करें: मानसिक स्वास्थ्य

एक महिला के जीवन में गर्भावस्था और प्रसव महत्वपूर्ण मील के पत्थर होते हैं। हालांकि, कई महिलाओं के लिए, प्रसवोत्तर अवधि शारीरिक और भावनात्मक दोनों तरह से चुनौतीपूर्ण हो सकती है।

प्रसवोत्तर अवसाद एक सामान्य स्थिति है जो कई नई माताओं को प्रभावित करती है। यह एक गंभीर मानसिक स्वास्थ्य समस्या है जिसका मां और बच्चे दोनों की भलाई पर दीर्घकालिक प्रभाव पड़ सकता है।

प्रसव के बाद अपने मानसिक स्वास्थ्य की रक्षा करने के कुछ तरीके यहां दिए गए हैं, ध्यान दें:-

स्व-देखभाल का अभ्यास करें

नई माताओं के लिए अपने मानसिक स्वास्थ्य की रक्षा के लिए स्वयं की देखभाल आवश्यक है। आराम करने, किताब पढ़ने, स्नान करने या ध्यान करने के लिए हर दिन कुछ मिनट लेने से तनाव कम करने और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है। व्यायाम शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी जरूरी है। प्रसवोत्तर व्यायाम कार्यक्रम नई माताओं को अपने शरीर में ताकत और आत्मविश्वास हासिल करने में मदद कर सकते हैं।

पर्याप्त नींद ज़रूर लें

पर्याप्त नींद ज़रूर लें!
पर्याप्त नींद ज़रूर लें!

प्रसवोत्तर अवधि में नींद की कमी आम है, लेकिन यह मानसिक स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है। नींद की कमी से मूड स्विंग, चिंता और अवसाद हो सकता है। जब बच्चा सो रहा होता है तो नई माताओं को झपकी लेने की कोशिश करनी चाहिए और रात में दूध पिलाने में मदद मांगनी चाहिए।

स्वस्थ आहार लें

नई माताओं को प्रसव से उबरने और स्तन के दूध का उत्पादन करने के लिए एक स्वस्थ आहार आवश्यक है। विभिन्न प्रकार के फल, सब्जियां, साबुत अनाज और लीन प्रोटीन खाने से भी मूड को बेहतर बनाने और अवसाद के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। नई माताओं को भी पूरे दिन खूब पानी पीकर हाइड्रेटेड रहना चाहिए।

अपने साथी के साथ संवाद करें

youtube-cover

प्रसवोत्तर अवधि रिश्तों पर दबाव डाल सकती है। अपनी आवश्यकताओं और भावनाओं के बारे में अपने साथी के साथ संवाद करना आवश्यक है। अपनी भावनाओं और चिंताओं के बारे में खुलकर और ईमानदारी से बात करने से आपको अधिक जुड़ाव और समर्थन महसूस करने में मदद मिल सकती है।

एक सहायता समूह में शामिल हों

नई माताओं के लिए एक सहायता समूह में शामिल होना उन अन्य लोगों से जुड़ने का एक शानदार तरीका हो सकता है जो समान अनुभवों से गुजर रहे हैं। सहायता समूह आपकी भावनाओं को साझा करने, समर्थन प्राप्त करने और नए मैथुन कौशल सीखने के लिए एक सुरक्षित स्थान प्रदान कर सकते हैं।

ब्रेक लें

नई माताओं को आराम करने, रिचार्ज करने और खुद की देखभाल करने के लिए ब्रेक की जरूरत होती है। चाइल्डकैअर या घर के कामों में मदद माँगना ठीक है, इसलिए आप एक ब्रेक ले सकते हैं और अपने लिए कुछ कर सकते हैं।

प्रसवोत्तर अवसाद के लक्षणों में शामिल हैं:

· उदासी, निराशा, या खालीपन की भावनाएँ

· उन गतिविधियों में रुचि की कमी जिन्हें आप पसंद करते थे

· थकान या ऊर्जा की कमी

· सोने में परेशानी या बहुत ज्यादा नींद आना

· ध्यान केंद्रित करने या निर्णय लेने में कठिनाई

· खुद को या अपने बच्चे को नुकसान पहुंचाने के विचार

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now