नकारात्मक आत्म-चर्चा को कैसे रोकें: मानसिक स्वास्थ्य 

How to Stop Negative Self-Talk: Mental Health
नकारात्मक आत्म-चर्चा को कैसे रोकें: मानसिक स्वास्थ्य

क्या कभी अपने ध्यान दिया है? जब कभी भी आप अपने बारे में कुछ गलत बोलते या सोचतें हैं तो अक्सर वो बातें आपके लिए सच हो जाती हैं भले ही फिर वो बात कैसी भी. ये कोई अचम्भा नही है. ये आपकी नेगेटिव सोच का असर है. ऐसा माना जाता है की अगर आप अपने बारे में या किसी और के बारे में कुछ कहते है तो वो पलट कर ज़रूर आता है क्यूंकि ये प्रकृति का नियम है ये आपको सुनती है और वही करती है जैसे आप दिल से चाहते हैं इसलिए अपने लिए नकारात्मक बात करना खतरनाक साबित हो सकता है. इसको रोकना बेहद ज़रूरी है.

नकारात्मक आत्म-चर्चा:

नकारात्मक आत्म-चर्चा केवल अपने आप को नीचा महसूस करने से कहीं अधिक है। ज़रूर, हर कोई कभी-कभी थोड़ा हारा हुआ महसूस करता है - यह जीवन का एक स्वाभाविक हिस्सा है। इसी तरह, आत्म-जागरूक होना और यह जानना भी महत्वपूर्ण है कि आप कब गलतियाँ करते हैं।

नकारात्मक आत्म-चर्चा के कुछ उदाहरणों शामिल हैं:

"मैं कुछ भी ठीक नहीं कर सकता। मुझे कोशिश भी नहीं करनी चाहिए।"

"कोई भी मुझे पसंद नहीं करता है, मुझे दोस्त बनाने की कोशिश करना बंद कर देना चाहिए।"

"मुझे अपने बारे में कुछ भी पसंद नहीं है।"

यदि आप हर समय इस तरह की आंतरिक बातचीत में खुद को उलझा हुआ पाते हैं. तो यह आपकी नकारात्मक आत्म-चर्चा आपके मानसिक कल्याण को प्रभावित कर सकती है।

नकारात्मक आत्म-चर्चा को दूर करें:

अपने आप से पूछें: "क्या मैं अपने सबसे करीबी दोस्तों के बारे में ये नकारात्मक बातें कहूँगा?"

शायद ऩही। इसलिए, आपको यह सीखने की ज़रूरत है कि आप अपने आप को उसी कोमलता के साथ देखभाल और सम्मान दें जैसा की आप किसी और के साथ व्यवहार करतें हैं जैसे आप अपने प्रियजनों के साथ करते हैं।

लेकिन आप आत्म-आलोचना के चक्र को कैसे तोड़ सकतें हैं? इसे तोड़ना एक कठिन आदत हो सकती है क्योंकि आप जिस व्यक्ति के साथ सबसे अधिक समय बिताते हैं, वह आप स्वयं हैं। लेकिन नकारात्मक सोच के चक्र को तोड़ने के तरीके हैं जिनमे से निम्न हैं:

1. प्राकृतिक सोच का प्रयास करें

आप सोच सकते हैं कि नकारात्मक आत्म-चर्चा का सही प्रतिरक्षी सकारात्मक आत्म-चर्चा है। लेकिन कुछ लोगों के लिए यह एक बड़ी छलांग हो सकती है। सच्चाई यह है कि स्वयं के प्रति दयालु होने की कुंजी स्वयं की प्रशंसा करना आवश्यक नहीं है पर खुद के बारे में प्राकृतिक रूप से सकारात्मक सोच रखना आपको बढ़ावा दे सकती है।

2. सकारात्मक शब्दों का उचारण:

स्वस्थ आदतें बनाने का सबसे अच्छा तरीका दोहराव है। लेकिन आदतें रातोंरात नहीं बदलेगी। जो बार-बार दोहराया जाता है वह अंततः आपके दिमाग में समा जाएगा. सकारात्मक विचारों को आप बार-बार दोहरा रहे हैं। और ये आपके जीवन में शक्ति का प्रभाव बढ़ाते हैं और आपके जीवन को शक्तिशाली बनाते हैं.

3. नकारात्मक आत्म-चर्चा को एक प्रेरक के रूप में न देखें

हम सभी आत्म-अनुशासन और विनम्र रहने के महत्व को जानते हैं। लेकिन आपको इस प्रक्रिया में खुद से मतलबी होने की जरूरत नहीं है। वास्तव में, नकारात्मक आत्म-चर्चा वह हो सकती है जो आपको अधिक सफल होने से रोकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा