आयुर्वेद के अनुसार कैसे खाएं और वजन कम करें?

How To Eat & Lose Weight According To Ayurveda?
आयुर्वेद के अनुसार कैसे खाएं और वजन कम करें?

प्राचीन भारतीय चिकित्सा प्रणाली, आयुर्वेद में, वजन घटाने के लिए समग्र रूप से विचार किया जाता है, न केवल आप क्या खाते हैं बल्कि आप कैसे खाते हैं, कब खाते हैं और आपकी समग्र जीवनशैली पर भी विचार करते हैं। स्वस्थ वजन हासिल करने और बनाए रखने में आपकी सहायता के लिए यहां कुछ सरल लेकिन प्रभावी आयुर्वेदिक टिप्स दी गई हैं!

निम्नलिखित इन कुछ टिप्स के बारे में यहाँ जाने:

1. मन लगाकर खाएं:

आयुर्वेद के अनुसार, पाचन की शुरुआत दिमाग से होती है। खाने से पहले, अपने भोजन के लिए आभार व्यक्त करने के लिए कुछ समय निकालें और अपने शरीर को पोषण देने का सकारात्मक इरादा रखें। भोजन करते समय टीवी या फ़ोन जैसी विकर्षणों से बचें और अपने भोजन के स्वाद, बनावट और सुगंध पर ध्यान दें।

मन लगाकर खाएं!
मन लगाकर खाएं!

2. सही आहार का पालन करें:

आयुर्वेद संपूर्ण, असंसाधित खाद्य पदार्थ खाने पर जोर देता है जो ताजा और मौसमी हों। अपने आहार में भरपूर मात्रा में फल, सब्जियाँ, साबुत अनाज, फलियाँ, मेवे और बीज शामिल करें। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ, परिष्कृत शर्करा और अत्यधिक मात्रा में कैफीन और शराब से बचें।

3. अपने भोजन को संतुलित करें:

अपने शरीर की पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करने और लालसा को रोकने के लिए प्रत्येक भोजन में सभी छह स्वादों (मीठा, खट्टा, नमकीन, कड़वा, तीखा और कसैला) के संतुलन का लक्ष्य रखें। उदाहरण के लिए, भोजन में शकरकंद (मीठा), नींबू का रस (खट्टा), और पत्तेदार सब्जियाँ शामिल करें।

4. हाइड्रेटेड रहें:

पाचन में सहायता करने और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए पूरे दिन गर्म या कमरे के तापमान पर पानी पियें। ठंडे पेय पदार्थों से बचें, क्योंकि आयुर्वेद के अनुसार वे पाचन अग्नि को कम कर सकते हैं।

5. खाने की सावधानीपूर्वक आदतें:

पाचन में सहायता करने और अधिक खाने से बचने के लिए अपने भोजन को अच्छी तरह से चबाएं और मध्यम गति से खाएं। आयुर्वेद तब तक खाने की सलाह देता है जब तक आपका पेट 75% तक भर न जाए ताकि पाचन के लिए जगह बची रहे।

6. पाचन मसालों को शामिल करें:

पाचन को बढ़ाने, चयापचय को बढ़ावा देने और वजन घटाने को बढ़ावा देने के लिए अपने भोजन में अदरक, जीरा, धनिया, सौंफ और हल्दी जैसे पाचन मसालों को शामिल करें।

7. नियमित व्यायाम का अभ्यास करें:

youtube-cover

नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न रहें जो आपके शरीर के प्रकार और संविधान के अनुरूप हो। योग, तेज चलना, तैराकी और नृत्य जैसी गतिविधियाँ परिसंचरण, चयापचय और समग्र स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकती हैं।

8. तनाव को प्रबंधित करें:

दीर्घकालिक तनाव से वजन बढ़ सकता है और पाचन बाधित हो सकता है। विश्राम और संतुलन को बढ़ावा देने के लिए ध्यान, गहरी साँस लेने के व्यायाम और प्रकृति में समय बिताने जैसी तनाव कम करने वाली तकनीकों का अभ्यास करें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा