ट्रिगर होने से कैसे रोकें: मानसिक स्वास्थ्य

How to stop being triggered: mental health
ट्रिगर होने से कैसे रोकें: मानसिक स्वास्थ्य

कुछ चीजों से उत्तेजित होना सामान्य है। आखिरकार, हम सभी इंसान हैं और हमारे अपने अनुभव और भावनाएं हैं। लेकिन अगर आप खुद को बहुत बार या बहुत आसानी से उत्तेजित होते हुए पाते हैं, तो यह आपके दैनिक जीवन के लिए परेशान करने वाला और विघटनकारी हो सकता है।

ट्रिगर होने से रोकने के कुछ तरीके यहां दिए गए हैं:

अपने ट्रिगर्स को समझें

ट्रिगर होने से रोकने के लिए पहला कदम यह समझना है कि आपको क्या ट्रिगर करता है। उन स्थितियों या कार्यों पर विचार करने के लिए कुछ समय निकालें जिनके कारण आप क्रोधित, परेशान या चिंतित महसूस करते हैं।

आप अपने ट्रिगर्स को ट्रैक करने के लिए एक जर्नल रख सकते हैं, और लिख सकते हैं कि आपने कैसा महसूस किया और किस चीज़ ने आपको ट्रिगर किया। एक बार जब आपको अपने ट्रिगर्स की बेहतर समझ हो जाती है, तो आप उनसे निपटने के लिए रणनीति विकसित करना शुरू कर सकते हैं।

माइंडफुलनेस का अभ्यास करें

माइंडफुलनेस का अभ्यास करें!
माइंडफुलनेस का अभ्यास करें!

माइंडफुलनेस एक ऐसा अभ्यास है जो आपको अपने विचारों, भावनाओं और शारीरिक संवेदनाओं के बारे में अधिक जागरूक होने में मदद करता है। जब आप ट्रिगर होते हैं, तो आप पल में मौजूद रहने में मदद करने के लिए माइंडफुलनेस का उपयोग कर सकते हैं और अपनी भावनाओं में बह जाने से बच सकते हैं। अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करना एक सरल सचेतन व्यायाम है।

सकारात्मक आत्म-चर्चा का प्रयोग करें

ट्रिगर्स के प्रबंधन के लिए सकारात्मक आत्म-चर्चा एक शक्तिशाली उपकरण हो सकती है। जब आप ट्रिगर महसूस करना शुरू करते हैं, तो अपने आप को याद दिलाने के लिए कुछ समय लें कि आप अपने विचारों और भावनाओं के नियंत्रण में हैं।

अपने आप से कहें कि आप स्थिति को संभाल सकते हैं और आप किसी भी चुनौती को पार करने के लिए काफी मजबूत हैं। अपने आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए प्रतिज्ञान का उपयोग करें और खुद को अपनी ताकत और क्षमताओं की याद दिलाएं।

ग्रोथ माइंडसेट विकसित करें

youtube-cover

एक विकास मानसिकता यह विश्वास है कि कड़ी मेहनत, समर्पण और दृढ़ता के माध्यम से आपकी क्षमताओं को समय के साथ विकसित और सुधारा जा सकता है। मानसिक रूप से मजबूत लोगों की विकास मानसिकता होती है और वे असफलता को सीखने और सुधारने के अवसर के रूप में देखते हैं।

यथार्थवादी लक्ष्य निर्धारित करें

यथार्थवादी लक्ष्य निर्धारित करना मानसिक रूप से कठिन मानसिकता विकसित करने का एक अनिवार्य हिस्सा है। मानसिक रूप से मजबूत लोग चुनौतीपूर्ण लेकिन प्राप्त करने योग्य लक्ष्य निर्धारित करते हैं जिन्हें प्राप्त करने के लिए प्रयास और समर्पण की आवश्यकता होती है। वे अपने लक्ष्यों को छोटे, अधिक प्रबंधनीय चरणों में विभाजित करते हैं और रास्ते में प्रत्येक मील का पत्थर मनाते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा