आघात आपके शेष जीवन को कैसे प्रभावित कर सकता है?

How trauma can affect the rest of your life?
आघात आपके शेष जीवन को कैसे प्रभावित कर सकता है?

आघात एक जीवन-परिवर्तनकारी घटना है जो किसी व्यक्ति के मानसिक, भावनात्मक और शारीरिक कल्याण को उनके शेष जीवन के लिए प्रभावित कर सकती है। दर्दनाक अनुभवों में शारीरिक या यौन शोषण, प्राकृतिक आपदाएं, कार दुर्घटनाएं, हिंसा देखना या युद्ध का अनुभव करना शामिल हो सकते हैं। आघात के प्रभाव विभिन्न तरीकों से प्रकट हो सकते हैं, जैसे कि चिंता, अवसाद और अभिघातजन्य तनाव विकार (PTSD)।

आज हम चर्चा करेंगे कि आघात किसी व्यक्ति के जीवन को दीर्घावधि में कैसे प्रभावित कर सकता है।

मानसिक स्वास्थ्य

youtube-cover

आघात का किसी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है। यह चिंता, अवसाद और PTSD सहित कई मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों को जन्म दे सकता है। ये स्थितियां लंबे समय तक चलने वाली हो सकती हैं और इसके लिए चल रहे उपचार की आवश्यकता हो सकती है। आघात का अनुभव करने वाले व्यक्ति अपनी भावनाओं को नियंत्रित करने के लिए संघर्ष कर सकते हैं, जिससे मिजाज, चिड़चिड़ापन और पारस्परिक संबंधों में कठिनाई हो सकती है।

चिंता

चिंता सबसे आम मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों में से एक है जो आघात से उत्पन्न हो सकती है। चिंता से ग्रस्त व्यक्ति अत्यधिक चिंता, भय और पैनिक अटैक का अनुभव कर सकते हैं। वे शारीरिक लक्षणों जैसे पसीना आना, तेज़ हृदय गति और कांपना भी अनुभव कर सकते हैं। चिंता दुर्बल करने वाली हो सकती है, जिससे व्यक्तियों के लिए रोज़मर्रा के कार्यों जैसे काम पर जाना या सामाजिककरण करना मुश्किल हो जाता है।

अवसाद

अवसाद एक अन्य मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है जो आघात से उत्पन्न हो सकती है। अवसाद से ग्रस्त व्यक्ति लगातार उदासी का अनुभव कर सकते हैं, उन गतिविधियों में रुचि की कमी का अनुभव कर सकते हैं जिनमें वे पहले आनंद लेते थे, और बेकार या अपराध की भावना महसूस करते हैं। अवसाद व्यक्तियों के लिए दैनिक जीवन में कार्य करना कठिन बना सकता है, उनके कार्य, संबंधों और व्यक्तिगत जीवन को प्रभावित कर सकता है।

पीटीएसडी

पीटीएसडी एक गंभीर और लंबे समय तक चलने वाली मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है जो एक दर्दनाक घटना का अनुभव करने या देखने के बाद विकसित हो सकती है। PTSD वाले व्यक्तियों को आघात के बारे में फ्लैशबैक, दुःस्वप्न और दखल देने वाले विचारों का अनुभव हो सकता है।

पीटीएसडी एक गंभीर मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है!
पीटीएसडी एक गंभीर मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है!

वे ट्रिगर्स से भी बच सकते हैं जो उन्हें आघात की याद दिलाते हैं, नकारात्मक मनोदशा में परिवर्तन का अनुभव करते हैं, और अतिसंवेदनशील या आसानी से चौंक जाते हैं। पीटीएसडी किसी व्यक्ति की दैनिक जीवन में कार्य करने की क्षमता को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित कर सकता है, जिससे रिश्तों को बनाए रखना, नौकरी करना या सामाजिक गतिविधियों में संलग्न होना चुनौतीपूर्ण हो जाता है।

शारीरिक मौत

किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य पर आघात का शारीरिक प्रभाव भी हो सकता है। आघात से बचे लोगों को पुराने दर्द, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं, सिरदर्द और थकान का अनुभव हो सकता है। आघात हृदय रोग, मधुमेह और ऑटोइम्यून विकारों जैसी पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों के विकास के जोखिम को भी बढ़ा सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now