Create

हाइड्रेटेड (Hydrated) नहीं रहना आपके मानसिक स्वास्थ को प्रभावित कर सकता है. जाने कैसे?

How Not Staying Hydrated Can Affect Your Mental Health
हाइड्रेटेड (Hydrated) नहीं रहना आपके मानसिक स्वास्थ को प्रभावित कर सकता है,जाने कैसे
वैशाली शर्मा

अपने शरीर को हाइड्रेट रखना से आपका अच्छा मानसिक स्वास्थ्य बना रहता है। प्यास शरीर की एक जैविक प्रवृत्ति है। यदि शरीर में पानी की कमी हो जाती है, तो कोशिकाएं इसे अस्तित्व के लिए खतरे के रूप में लेना शुरू कर देतीं हैं जिसकी वजह से शरीर और शरीर की सभी मांसपेशियां तनाव महसूस करतीं हैं.

अच्छे मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए शरीर को हर समय हाइड्रेटेड रखना सबसे बुनियादी कदम है। यह देखा गया है कि अवसाद और चिंता से ग्रस्त व्यक्ति अक्सर खुद को हर समय हाइड्रेटेड रखना भूल जाते हैं और अपने मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए कैफीनयुक्त पेय और अन्य पदार्थों पर अधिक निर्भर रहते हैं। जिसकी वजह से मानसिक तनाव बढ़ता है और आदमी असहज महसूस करता है.

Dehydration के लक्षण निम्न देखने को मिलते है :-

• हृदय गति में वृद्धि

• चक्कर आना या कमजोरी

• सिरदर्द,थकान

• मुँह सूखना, होंठ और आँखें शुष्क होना

• पेशाब का रंग गहरा होना, आदि.

अध्ययनों के माध्यम से ये पता चलता है कि जब आप निर्जलित होते हैं, तो आपको चिंता और घबराहट का अनुभव अधिक होने लगता है जिसके कारण आपका शरीर लगातार पानी की कमी के कारण लड़ाई लड़ता है.

Hydrated रहेने का महत्व:

मानव शरीर 70% पानी का बना हुआ है और ये परसेंटेज उम्र और शरीर के हिसाब से ज्यादा या कम रहता है, पर अगर आपके शरीर में पानी की कामी रहती है तो ये बेचैन हो जाता है क्यूंकि पानी शरीर के लिए एक बुनियादी ज़रुरत है इसी कारण पानी कमी कमी होने पर हम मानसिक तनाव महसूस करते है और यदि अगर इसकी कमी अधिक बढ़ जाए तो बात बिगड़ भी सकती है.

इसलिए, पानी को एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व के रूप में सोचना महत्वपूर्ण है। जब हर शारीरिक क्रिया पानी पर निर्भर करती है, तो इसकी कमी से ऊर्जा का उत्पादन कम हो सकता है और चरम मामलों में मस्तिष्क की संरचना में बदलाव आ सकता है।

आपका शरीर पानी की कमी को शारीरिक तनाव के रूप में व्याख्या करता है। नतीजतन, आपकी अधिवृक्क ग्रंथियां तनाव हार्मोन कोर्टिसोल का स्राव शुरू करती हैं। बदले में, हार्मोन का शरीर पर व्यापक प्रभाव पड़ता है.

क्या कहता है शोध

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित 'Do Small Differences In Hydration Status Affect Mood And Mental Performance' शीर्षक वाली एक रिपोर्ट के अनुसार, लोगों का एक बड़ा प्रतिशत इस हद तक निर्जलित (dehydrated) है कि उनके शारीरिक समझ और मूड का स्थिर रहेना बाधित हो गया है। अध्ययन में यह भी पाया गया है कि कुछ संज्ञानात्मक क्षमताएं और मनोदशा की स्थिति पानी की खपत से सकारात्मक रूप से प्रभावित होती है।

कुछ अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि कैसे लोग पानी को अन्य पेय पदार्थों (flavored drinks) से बदल रहे हैं, जो सीधे तौर पर मोटापे और जीवन शैली की स्थिति में योगदान दे रहा है और अप्रत्यक्ष रूप से व्यवहार में बदलाव ला रहा है।

शरीर को Hydrated कैसे रखा जाए ?

डॉक्टरों के अनुसार दिन भर में अपने शारीरिक क्षमता अनुसार कम से कम 8 glass पानी पीना चाहिए. इसके अलवा आप नारियल पानी, निम्बो पानी और रसीले फलों का सेवन जैसे तरबूज, आम, अंगूर भी खा सकते हैं.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by वैशाली शर्मा

Comments

Fetching more content...