नमक किस प्रकार मस्तिष्क को प्रभावित कर सकता है: मानसिक स्वास्थ्य

In what ways salt can affects the brain: Mental Health
नमक किस प्रकार मस्तिष्क को प्रभावित कर सकता है: मानसिक स्वास्थ्य

नमक मानव शरीर के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व है, लेकिन इसके बहुत अधिक सेवन से मस्तिष्क और मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। आहार में नमक के उच्च स्तर को विभिन्न प्रकार की मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों से जोड़ा गया है, जिनमें चिंता, अवसाद और संज्ञानात्मक गिरावट शामिल हैं।

नमक रक्तचाप बढ़ाकर मस्तिष्क को प्रभावित करता है।

youtube-cover

जब हम बहुत अधिक नमक का सेवन करते हैं, तो हमारा शरीर अतिरिक्त सोडियम को पतला करने के लिए अधिक पानी को बनाए रखता है, जिससे उच्च रक्तचाप हो सकता है। उच्च रक्तचाप, बदले में, मस्तिष्क में रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है, मस्तिष्क कोशिकाओं में रक्त प्रवाह और ऑक्सीजन को कम कर सकता है। इससे संज्ञानात्मक गिरावट और मनोभ्रंश का खतरा बढ़ सकता है।

नमक शरीर में तनाव हार्मोन के स्तर को बढ़ाकर मस्तिष्क को प्रभावित करता है।

जब हम तनाव का अनुभव करते हैं, तो हमारे शरीर से कोर्टिसोल और एड्रेनालाईन जैसे हार्मोन निकलते हैं, जो हमें स्थिति का जवाब देने में मदद करते हैं। हालांकि, पुराने तनाव से इन हार्मोनों का अधिक उत्पादन हो सकता है, जो समय के साथ मस्तिष्क को नुकसान पहुंचा सकता है। अध्ययनों से पता चला है कि आहार में नमक का उच्च स्तर तनाव हार्मोन के उत्पादन को बढ़ा सकता है, जिससे चिंता और अवसाद बढ़ सकता है।

नमक मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर के संतुलन को भी प्रभावित कर सकता है,

जो रसायन होते हैं जो न्यूरॉन्स के बीच संकेतों को प्रसारित करने में मदद करते हैं। बहुत अधिक नमक इन न्यूरोट्रांसमीटरों के संतुलन को बाधित कर सकता है, जिससे मूड में बदलाव और मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। उदाहरण के लिए, नमक के उच्च स्तर को सेरोटोनिन के स्तर में कमी से जोड़ा गया है, जिससे अवसाद के लक्षण हो सकते हैं।

उच्च नमक का सेवन स्ट्रोक के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है।

उच्च नमक का सेवन स्ट्रोक के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है!
उच्च नमक का सेवन स्ट्रोक के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है!

स्ट्रोक तब होता है जब मस्तिष्क को रक्त की आपूर्ति बाधित हो जाती है, जिससे मस्तिष्क कोशिकाओं की क्षति या मृत्यु हो जाती है। आहार में नमक के उच्च स्तर को उच्च रक्तचाप और मस्तिष्क में रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाकर स्ट्रोक के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है।

कम नमक वाले आहार का मस्तिष्क और मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

जर्नल न्यूरोसाइंस में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि कम नमक वाला आहार चूहों में बेहतर संज्ञानात्मक कार्य और कम चिंता से जुड़ा था। जर्नल ऑफ ह्यूमन हाइपरटेंशन में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि कम नमक वाला आहार मनुष्यों में अवसाद के लक्षणों में कमी से जुड़ा था।

नमक का सेवन कम करने से शारीरिक स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है,

जैसे हृदय रोग और स्ट्रोक के जोखिम को कम करना। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन ने सिफारिश की है कि वयस्क प्रति दिन 2,300 मिलीग्राम सोडियम से अधिक नहीं लेते हैं, जो लगभग एक चम्मच नमक है। हालाँकि, कई अमेरिकी इससे कहीं अधिक खपत करते हैं, कुछ अनुमानों के अनुसार औसत अमेरिकी प्रति दिन 3,400 मिलीग्राम से अधिक सोडियम की खपत करता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
Be the first one to comment