Create

क्या रिवाइटल आपकी सेहत को खराब बना रहा है?: Kya Revital Aapki Sehat Ko Kharaab Bana Raha Hai? 

क्या ये रिवाइटल (Revital) आपके लिए सही है?

क्या रिवाइटल (Revital) आपकी सेहत को खराब बना रहा है? जी हाँ, जो मल्टी विटामिन खाकर आप अपनी सेहत को बेहतर करने का मन बना रहे हैं वो आपके लिए बेहद नुकसानदेह हो सकता है। ऐसा हम किसी वैमनस्य से नहीं, बल्कि शोध के आधार पर कह रहे हैं जिसके बारे में हम आपको नीचे बताने वाले हैं।

ऐसे कई लोग हैं जो सालों साल तक इसका सेवन करते हैं लेकिन उससे उन्हें कोई फायदा नहीं होता है। इसके पीछे एक बड़ी वजह ये है कि इसमें मौजूद तत्व बेहद अलग और परेशानी भरे होते हैं जो किसी भी रूप में सही नहीं है। अगर आप सिर्फ चकाचौंध से भरे स्टार पावर और उनके द्वारा बेचे गए प्रोडक्ट्स पर ध्यान ना दें तो ये प्रोडक्ट आपको फायदा कम और नुकसान ज्यादा दे रहा है।

ऐसे भी कई लोग हैं जो इससे इत्तेफाक ना रखें लेकिन तथ्यों के आगे भावनाओं और शब्दों का कोई स्थान नहीं रह जाता है। इसलिए इस आर्टिकल में हम आपको रिवाइटल के बारे में हर वो जानकारी देने वाले हैं जिसको जानने के बाद आपको खुद ही फैसला करना है कि आप खुद और परिवार के लोगों को इसका इस्तेमाल करने देंगे या नहीं।

क्या रिवाइटल आपकी सेहत को खराब बना रहा है?: Kya Revital Aapki Sehat Ko Kharaab Bana Raha Hai?

जेलाटीन: Gelatin

अगर आप एक शाकाहारी हैं तो आपको बताते चलें कि इसमें जेलाटीन का इस्तेमाल होता है जो कि नॉन वेज होता है। वैसे इस बात की जानकारी आपको इसकी पैकिंग पर भी मिल जाती है क्योंकि वहाँ पर दर्शाया गया निशान ये बताता है कि ये कहीं से भी वेज नहीं है। इसलिए अगर आप शाकाहारी हैं तो ये आपके लिए नहीं है।

इंग्रीडिएंट्स से होता है नुकसान (और उनके बारे में पैकिंग पर पूरी जानकारी नहीं): Ingredients harm you and no information about ingredients on packing

अब आप ही बताएं कि अगर कोई कंपनी लिखे कि वो पीनट आयल का इस्तेमाल कर रही है तो ये मुमकिन है कि वो किसी भी तेल का इस्तेमाल कर सकती है। वहीं मिनरल्स का कोई सोर्स नहीं बताया गया है। केमिकल फिलर्स, विटामिन्स का कोई सोर्स इस प्रोडक्ट में नहीं लिखा हुआ है।

अगर जिनसेंग रुट एक्स्ट्रैक्ट को एक सही तत्व मान भी लें, क्योंकि ये एक अच्छा तत्व है तो क्या ट्रांस फैट से भरपूर हाइड्रोजेनेटेड वेजिटेबल आयल आपकी सेहत के लिए ठीक हो सकता है? वहीं कंपनी ने अपनी पैकिंग में ही सिंथेटिक कलर्स के इस्तेमाल की बात को लिखा है जो अपने आप में एक बड़ा सवाल है।

अब अगर विटामिन्स और मिनरल्स के बारे में कोई जानकारी नहीं है तो क्या आप इस बात को लेकर आश्वश्त हो सकते हैं कि आप कोई सिंथेटिक विटामिन और मिनरल नहीं खा रहे हैं? वैसे भी हमारी सेहत के साथ हर बड़ी कंपनी ने खिलवाड़ करने का प्रयास किया है, पर क्या आप सेहत के नाम पर ऐसी परेशानी को अपने आसपास रखना चाहेंगे?

कंपनियाँ अगर बड़े स्टार की जगह पर अपने प्रोडक्ट को बेहतर करें तो उससे सबको लाभ होगा। वैसे अगर आपको विटामिन्स और मिनरल्स चाहिए तो आप हर दिन सुबह सुबह फल खा सकते हैं। इससे आपको काफी जरूरी और अच्छे विटामिन्स एवं मिनरल्स प्राप्त हो जाएंगे जिसमें कोई मिलावट नहीं होगी।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Amit Shukla
Be the first one to comment