Create

एसिडिटी होने पर इन फूड्स को अपनी डाइट में शामिल करें 

एसिडिटी होने पर इन फूड्स को अपनी डाइट में शामिल करें (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
एसिडिटी होने पर इन फूड्स को अपनी डाइट में शामिल करें (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

एसिडिटी (Acidity) होने पर सभी जानते हैं कि तला भुना, अपच वाला खाना नहीं खाना है लेकिन क्या आप जानते हैं कि किन चीजों को अपनी डाइट में शामिल करके आप एसिडिटी की स्थिति को ठीक कर सकते हैं। जी हाँ, भोजन में बदलाव से ही आप एसिडिटी को नियंत्रित कर सकते हैं। यह लेख आपको 7 ऐसे फूड्स का सुझाव देने जा रहा है जिनके सेवन से आप एसिडिटी की समस्या दूर कर सकते हैं। आइये इन्हें विस्तार से जानें।

एसिडिटी होने पर इन फूड्स को अपनी डाइट में शामिल करें - Janiye Acidity Mein Kya Khayein In Hindi

1. पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं (Drink enough water)

अपने आप को हाइड्रेटेड रखना सबसे महत्वपूर्ण स्वास्थ्य सलाह है। शोध से पता चला है कि भरपूर मात्रा में पानी पीने से एसिडिटी के लक्षण कम हो जाते हैं। पर्याप्त पानी पीने से लक्षणों से राहत के लिए पेट में एसिड पतला हो जाता है। एक अन्य परीक्षण से पता चला है कि एल्कलाइन पानी (pH 8.8) पीने से काफी हद तक एसिडिटी के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है।

2. आंवला (Gooseberry)

खट्टा होने के बावजूद आंवला साइट्रिक फल नहीं है। वास्तव में, इसकी क्षारीयता (alkalinity) पेट के एसिड को बेअसर करने में मदद करती है, आंत में एक स्वस्थ pH संतुलन बहाल करती है। आंवला अपने उच्च फाइबर सामग्री के कारण एसिडिटी से पीड़ित किसी के लिए भी फायदेमंद माना जाता है। घुलनशील तथा अघुलनशील दोनों तरह के फाइबर से युक्त, आंवला पाचन में सुधार करता है और परिपूर्णता की भावना को बढ़ाता है, जिससे अधिक खाने का खतरा कम होता है। यह अपने आप में एसिडिटी के खतरे को कम करता है।

3. केले (Banana)

केले केवल अपने एल्कलाइन प्रकृति के कारण एसिडिटी के लिए अच्छे नहीं हैं, बल्कि उनके उच्च फाइबर सामग्री के कारण भी हैं। आंवला की तरह, आहार फाइबर का यह आसानी से सुलभ स्रोत अपच और एसिडिटी जैसी संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए पाचन को मजबूत करने में मदद कर सकता है। केले में पेक्टिन (pectin) भी होता है, जो एक प्रकार का फाइबर होता है जो भारी मात्रा में मल त्याग को आसान बनाने में मदद करता है। केले एसोफेजियल ट्रैक्ट (esophageal tract) के म्यूकोसल लाइनिंग (mucosal lining) को लेप करके हर्टबर्न से भी सुरक्षा बढ़ाते हैं।

4. खरबूजे (Melons)

खरबूजे एसिडिटी से पीड़ित किसी भी व्यक्ति के लिए एक बढ़िया विकल्प हैं। आप तरबूज, खरबूजा, या कस्तूरी खरबूजे किसी का भी विकल्प अपना सकते हैं। इन्हें अत्यधिक एल्कलाइन वाला माना जाता है, जो पेट की एसिडिटी के स्तर को कम करने में मदद करता है। खरबूजे भी मैग्नीशियम का एक उत्कृष्ट प्राकृतिक स्रोत हैं, जो एसिडिटी की दवाओं में आमतौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला मिनरल है। खरबूजे, केला और आंवला के अलावा, आप सेब और नाशपाती जैसे अन्य फलों का सेवन भी कर सकते हैं।

5. दही (Curd/Yogurt)

दही का नियमित सेवन आपको आपकी प्रोबायोटिक आवश्यकता को पूरा कर सकता है, आपके पाचन तंत्र के स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है और सूजन आंत्र रोगों और एसिडिटी के जोखिम को कम कर सकता है। हाल के वर्षों में पाचन विकारों सहित स्वास्थ्य स्थितियों की एक विस्तृत श्रृंखला को रोकने के लिए माइक्रोबायोम (microbiome) या आंत माइक्रोबायटा (gut microbiata) की रक्षा में प्रोबायोटिक्स (probiotic) के महत्व की मान्यता बढ़ रही है।

6. मुलेठी (Licorice)

दुनिया भर में प्राकृतिक चिकित्सा में मुलेठी का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, लेकिन इसके औषधीय उपयोग के कुछ सबसे पुराने संदर्भ आयुर्वेद में पाए जा सकते हैं, जहां इसे ज्येष्ठिमधु (मुलेठी) कहा जाता है। एसिडिटी और अपच के लिए कुछ बेहतरीन आयुर्वेदिक दवाओं में यह घटक होता है, जिसके बारे में कहा जाता है कि यह अन्नप्रणाली और पेट की श्लेष्मा परत (mucosal lining) को एसिडिटी से होने वाले नुकसान से बचाती है। मुलेठी को आप कच्चा चबा सकते हैं या फिर चाय में डालकर सेवन कर सकते हैं।

7. किशमिश (Raisin)

किशमिश फाइबर के सबसे अच्छे प्राकृतिक स्रोतों में से एक मानी जाती है। 4 से ऊपर pH के साथ, उन्हें एसिडिटी को कम करने में मदद करने के लिए सबसे अच्छे एल्कलाइन फॉर्मिंग फूड्स में से एक माना जाता है। किशमिश कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन, फोलेट और विटामिन सी जैसे आवश्यक पोषक तत्वों का भी एक अच्छा स्रोत है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

comments icon
Fetching more content...