जानिए एक नई मां के रूप में अपने मानसिक स्वास्थ्य का प्रबंधन कैसे करें?

Know how to manage your mental health as a new mother?
जानिए एक नई मां के रूप में अपने मानसिक स्वास्थ्य का प्रबंधन कैसे करें?

माँ बनना आनंद, प्रेम और संतुष्टि की भावना से भरा एक असाधारण और जीवन बदलने वाला अनुभव है। जबकि माँ बनने की यात्रा कई चुनौतियाँ भी लाती है जो एक महिला के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती हैं। नई माताओं के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे अपने मानसिक कल्याण को प्राथमिकता दें क्योंकि वे अपने बच्चे की देखभाल की मांगों को नेविगेट करती हैं।

आज हम नई माताओं को उनके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने में मदद करने के लिए कुछ टिप्स लायें हैं जो आपके बड़े काम आ सकती है, ध्यान दें:-

प्रसवोत्तर अवसाद और चिंता से सावधान रहें

प्रसवोत्तर अवसाद (पीपीडी) और चिंता प्रचलित स्थितियाँ हैं जो कई नई माताओं को प्रभावित करती हैं। लक्षणों से अवगत रहें, जिसमें लगातार उदासी, निराशा की भावना, अत्यधिक चिंता, रुचि में कमी, भूख या नींद के पैटर्न में बदलाव और बच्चे के साथ संबंध बनाने में कठिनाई शामिल हो सकती है। यदि आप एक विस्तारित अवधि के लिए इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं, तो सहायता और मार्गदर्शन के लिए एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से संपर्क करें।

प्रसवोत्तर अवसाद!
प्रसवोत्तर अवसाद!

अपनी भावनाओं को स्वीकार करें और सामान्य करें

मातृत्व के शुरुआती चरण भारी हो सकते हैं, और आपके द्वारा अनुभव की जाने वाली भावनाओं की पूरी श्रृंखला को पहचानना और स्वीकार करना महत्वपूर्ण है। खुशी, चिंता, थकान, हताशा और यहां तक कि उदासी की भावनाएं सभी सामान्य और मान्य हैं। अपने आप को बिना किसी निर्णय या अपराधबोध के इन भावनाओं को महसूस करने और स्वीकार करने की अनुमति दें।

स्व-देखभाल को प्राथमिकता दें

नई माताओं के लिए स्व-देखभाल अक्सर एक चुनौती बन जाती है क्योंकि वे अपने बच्चे की ज़रूरतों पर ध्यान केंद्रित करती हैं। हालाँकि, अपने समग्र कल्याण के लिए स्वयं की देखभाल करना आवश्यक है। प्रत्येक दिन स्व-देखभाल गतिविधियों के लिए समय ज़रूर निकालें जो आपकी ऊर्जा को ठीक ढंग से प्रबंधित करें और विश्राम को बढ़ावा देती दे सकती हैं।

यथार्थवादी उम्मीदें स्थापित करें

नई माताओं को अपने और अपने बच्चे के लिए यथार्थवादी अपेक्षाएँ निर्धारित करनी चाहिए, यह समझते हुए कि रास्ते में उतार-चढ़ाव आएंगे। छोटी जीत का जश्न मनाएं और जब चीजें योजना के अनुसार न हों तो खुद पर ज़ोर न डालें। सीखने की प्रक्रिया को अपनाएं और एक मां के रूप में अपने पर भरोसा करें।

पर्याप्त आराम और नींद लें

youtube-cover

नींद की कमी आपके मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है। जबकि यह एक नवजात शिशु के साथ चुनौतीपूर्ण है, जब भी संभव हो पर्याप्त आराम करने को प्राथमिकता दें। जब आपका बच्चा झपकी ले तो झपकी लें . ये आपके मूड को बढ़ावा देने और आपके समग्र संज्ञानात्मक कार्यप्रणाली में सुधार करने में मदद करेगा।

अपने साथी के साथ संवाद करें

इस समय के दौरान अपने साथी के साथ खुला और ईमानदार संचार बनाए रखना महत्वपूर्ण है। अपने विचारों, चिंताओं और भावनाओं को एक दूसरे के साथ साझा करें, क्योंकि यह आपके बंधन को मजबूत करता है और समझ को बढ़ावा देता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now