जानिए क्या लो ब्लड शुगर के कारण बोलने में हकलाहट आ सकती है?

Know whether low blood sugar can cause stuttering in speaking?
जानिए क्या लो ब्लड शुगर के कारण बोलने में हकलाहट आ सकती है?

निम्न रक्त शर्करा, जिसे हाइपोग्लाइसीमिया भी कहा जाता है, तब होता है जब रक्त शर्करा का स्तर सामान्य से कम हो जाता है। मधुमेह वाले लोगों के लिए यह एक आम समस्या हो सकती है, जो अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए दवा या इंसुलिन पर निर्भर रहते हैं। लो ब्लड शुगर कई तरह के लक्षण पैदा कर सकता है, जिसमें भ्रम, चक्कर आना, कमजोरी और चेतना का नुकसान भी शामिल है। वाणी का धीमा होना भी निम्न रक्त शर्करा का एक संभावित लक्षण है।

जब रक्त शर्करा बहुत कम हो जाता है, तो

youtube-cover

मस्तिष्क उस ऊर्जा से वंचित हो सकता है जिसे उसे ठीक से काम करने की आवश्यकता होती है। इसके परिणामस्वरूप विभिन्न प्रकार के न्यूरोलॉजिकल लक्षण हो सकते हैं, जिसमें भाषण का धीमा होना भी शामिल है। जीभ और मुखर डोरियों को मांसपेशियों द्वारा नियंत्रित किया जाता है और इन मांसपेशियों को ठीक से काम करने के लिए ग्लूकोज की आवश्यकता होती है। जब रक्त शर्करा का स्तर गिरता है, तो ये मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप बोलने में कठिनाई होती है।

निम्न रक्त शर्करा और अस्पष्ट भाषण

निम्न रक्त शर्करा और अस्पष्ट भाषण को रोकने का सबसे अच्छा तरीका स्वस्थ रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखना है। यह आहार, व्यायाम और दवा के संयोजन के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है।

आहार:

नियमित, संतुलित भोजन और स्नैक्स खाने से रक्त शर्करा के स्तर में गिरावट को रोकने में मदद मिल सकती है। भोजन पूरे दिन समान रूप से होना चाहिए, और यदि आवश्यक हो तो भोजन के बीच स्नैक्स का सेवन करना चाहिए। उच्च चीनी या सरल कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए, क्योंकि वे रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ा सकते हैं और फिर तेजी से गिर सकते हैं।

व्यायाम:

नियमित व्यायाम!
नियमित व्यायाम!

नियमित व्यायाम भी इंसुलिन के प्रति शरीर की संवेदनशीलता में सुधार करके रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। हालांकि, मधुमेह वाले लोगों को व्यायाम से पहले, दौरान और बाद में अपने रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करने में सावधानी बरतनी चाहिए, क्योंकि शारीरिक गतिविधि से रक्त शर्करा का स्तर गिर सकता है।

दवा:

मधुमेह वाले लोगों को अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए दवा या इंसुलिन लेने की आवश्यकता हो सकती है। इन दवाओं की निर्धारित खुराक और समय का पालन करना महत्वपूर्ण है, और नियमित रूप से रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करना ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे एक स्वस्थ सीमा के भीतर हैं।

लो ब्लड शुगर और स्लर्ड स्पीच का इलाज

यदि निम्न रक्त शर्करा और अस्पष्ट भाषण होता है, तो आगे की जटिलताओं को रोकने के लिए उनका शीघ्र उपचार करना महत्वपूर्ण है।

निम्नलिखित कदम मदद कर सकते हैं:

रक्त शर्करा के स्तर की जाँच करें:

यदि संभव हो तो रक्त ग्लूकोज मीटर का उपयोग करके रक्त शर्करा के स्तर की जाँच करें। यदि रक्त शर्करा का स्तर 70 मिलीग्राम / डीएल से कम है, तो तेजी से काम करने वाले कार्बोहाइड्रेट का सेवन करें, जैसे कि ग्लूकोज टैबलेट, फलों का रस या नियमित सोडा।

आराम करें:

बैठें या लेटें और लक्षणों में सुधार होने तक आराम करें।

ब्लड शुगर लेवल की दोबारा जांच करें:

15 मिनट के बाद ब्लड शुगर लेवल की दोबारा जांच करें। यदि वे अभी भी 70 मिलीग्राम/डीएल से कम हैं, तो एक और तेजी से काम करने वाले कार्बोहाइड्रेट का सेवन करें।

रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करें:

रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करना जारी रखें और कार्बोहाइड्रेट का सेवन तब तक करें जब तक कि स्तर स्वस्थ श्रेणी में वापस न आ जाए।

चिकित्सा पर ध्यान दें:

यदि रक्त शर्करा के स्तर में सुधार नहीं होता है, या यदि अन्य लक्षण जैसे भ्रम, दौरे, या चेतना का नुकसान होता है, तो तुरंत चिकित्सा की तलाश करें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now