Create

सुबह खाली पेट चबाएं ये पत्तियां, नहीं होगी गैस और ब्लॉटिंग की समस्या : Subah Khali Pet Khaye Ye Patti, Nahi Hogi Gas Aur Bloating Ki Samasya

सुबह खाली पेट चबाएं ये पत्तियां, नहीं होगी गैस और ब्लॉटिंग की समस्या (फोटो - sportskeeda hindi)
सुबह खाली पेट चबाएं ये पत्तियां, नहीं होगी गैस और ब्लॉटिंग की समस्या (फोटो - sportskeeda hindi)

हम कई बीमारियों का नैचुरल तरीके के दूर कर सकते है। ऐसे में गैस , बदहजमी और ब्लॉटिंग आदि की समस्या से आप नेचुरल तरीके से ही निपट सकते हैं। जैसे कि हमारे घर में कुछ पौधे और उनकी पत्तियां कई बीमारियों से बचाने में हमारी मदद कर सकते हैं। इसके साथ ही इन पत्तियों का इस्तेमाल करना भी आसान होता है। चाहे आप इससे चटनी बना लें या फिर इसका जूस पिएं। इन पत्तियों की खास बात ये है कि ये गैस और एसिडिटी को कम करती है और शरीर को डिटॉक्स करता है। तो, आइए विस्तार से जानते हैं इन पत्तियों के बारे में।

सुबह खाली पेट चबाएं ये पत्तियां, नहीं होगी गैस और ब्लॉटिंग की समस्या : Subah Khali Pet Khaye Ye Patti, Nahi Hogi Gas Aur Bloating Ki Samasya In Hindi

पुदीना की पत्तियां - पुदीना (mint leaves) को उपयोग हर घर में किया जाता है। पुदीने के खास गुण की बात करें तो, ये एंटीबैक्टीरियल है और पेट में बैक्टीरियल इंफेक्शन से बचा सकता है। ऐसे में पेट को ठंडा रखने के लिए और बदहजमी आदि से बचने के लिए आप पुदीने की पत्तियों को सुबह-सुबह चबा सकते हैं।

जामुन की पत्तियां - जामुन की पत्तियां को चबाने से ब्लॉटिंग (bloating) और एसिडिटी (gas) की समस्या नहीं होगी। इसके अलावा जामुन की पत्तियों का अर्क इंसुलिन के प्रोडक्शन को बढ़ावा देता है और शुगर पचाने में मदद करता है। इसलिए ये डायबिटीज के मरीजों के लिए भी अच्छा है।

करी पत्ता - करी पत्ता डायबिटीज में मददगार है ही बल्कि, पेट को हेल्दी रखने में भी मदद करता है। ये पेट के काम काज को तेज करता है और इसके साथ ही मेटाबोलिक फंक्शन को तेज करता है। इसके अलावा करी पत्ता चबाने से शरीर भी डिटॉक्स होता है।

अजवाइन की पत्तियां - अजवाइन की पत्तियों को सुबह खाली पेट चबाने से पेट से जुड़ी समस्याओं से बचा जा सकता है। बता दें कि अजवाइन की पत्तियों का अर्क एसिडिटी कम करता है और गैस की समस्या से बचाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment