Create

क्या है Leukoplakia? अपनाएं घरेलू इलाज

ल्यूकोप्लाकिया का घरेलू इलाज (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
ल्यूकोप्लाकिया का घरेलू इलाज (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

शुष्क मुँह (Dry mouth), जिसे ल्यूकोप्लाकिया (Leukoplakia) के रूप में भी जाना जाता है, वयस्कों में प्रमुख रूप से मनाया जाने वाला एक मौखिक रोग है। मुंह में छोटे-छोटे धब्बे बन जाते हैं, खासकर आपकी जीभ पर। ये भूरे-सफेद रंग के होते हैं और आपके गालों के अंदरूनी हिस्से पर भी देखे जा सकते हैं। यह एक गैर-कैंसर वाली बीमारी है, लेकिन अगर अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो यह जटिल हो सकती है। जब पैच बालों वाले हो जाते हैं, तो यह आमतौर पर HIV+ होने का संकेत होता है। ल्यूकोप्लाकिया उपचार (दवाएं या घरेलू उपचार) प्रभावित क्षेत्र के एक छोटे से ऊतक का निदान करने के बाद किया जाता है।

क्या है Leukoplakia? अपनाएं घरेलू इलाज : Leukoplakia Home Remedies In Hindi

ल्यूकोप्लाकिया के लक्षण : Symptoms of Leukoplakia

ल्यूकोप्लाकिया शरीर के उन हिस्सों पर हो सकता है जिनमें म्यूकोसल टिश्यू () होते हैं, जैसे की मुंह। मुंह के अंदर अलग से दिखने वाले पैच या धब्बे इसके मुख्य लक्षणों में से एक हैं। यह पैच/धब्बे देखने में कई तरह के हो सकते हैं :

- ग्रे या सफेद रंग के,

- उभरा हुआ,

- स्पर्श, गर्मी, मसालेदार भोजन के प्रति संवेदनशीलता,

- जलन और सूजन, लालपन, सूजन,

- या लाल धब्बे जैसा भी हो सकता है।

ल्यूकोप्लाकिया के 4 घरेलू इलाज : Home Remedies For Leukoplakia In Hindi

1. हल्दी एक प्रभावी ल्यूकोप्लाकिया उपचार है (Turmeric)

हल्दी एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल, एंटीसेप्टिक और साथ ही एनाल्जेसिक प्रकृति की होती है। इसलिए, नियमित उपयोग के साथ-साथ खपत ल्यूकोप्लाकिया के लक्षणों को कम करने में मदद करती है। आप या तो हल्दी का पानी ले सकते हैं। या, एक प्रभावी ल्यूकोप्लाकिया उपचार के रूप में हल्दी के पेस्ट को अपने मसूड़ों और जीभ पर लगाएं।

2. तिल के तेल का उपयोग (Sesame Oil)

आयुर्वेद में तिल के तेल का इस्तेमाल ऑयल पुलिंग और ओरल हेल्थ केयर के लिए किया जाता रहा है। तेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी के साथ-साथ एंटीबैक्टीरियल गुण भी होते हैं। तो अपने मुंह में एक चम्मच तिल का तेल रखें और इसे एक मिनट के लिए घुमाएं। एक बार थूक दें और इसे खाली पेट ही करें।

3. ग्रीन टी है फायदेमंद (Green Tea)

ग्रीन टी में एंटी-इंफ्लेमेटरी के साथ-साथ एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं, इसलिए यह संक्रमण की संभावना को कम करता है। यह आपके मुंह में मौजूद खराब बैक्टीरिया से छुटकारा पाने में भी मदद करता है। इसलिए, इसे हर दिन या ल्यूकोप्लाकिया के लक्षण कम होने तक गर्मागर्म पिएं।

4. तुलसी को माउथवॉश की तरह इस्तेमाल करें (Use Basil As A Mouthwash)

ताजी तुलसी बीटा-कैरोटीन से भरपूर होती है जो ल्यूकोप्लाकिया के लक्षणों को ठीक करने में बेहद फायदेमंद है। इसलिए एक कप पानी में तुलसी के ताजे पत्तों को उबालकर काढ़ा तैयार करें। उन्हें लगभग 5-7 मिनट तक खड़े रहने दें और इसे ठंडा होने दें। काढ़े को छान लें और जटिलताओं से बचने के लिए प्रत्येक भोजन के बाद प्राकृतिक माउथवॉश के रूप में उपयोग करें।

youtube-cover

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment