Create

पान के पत्तों का पानी पीने के 5 फायदे

पान के पत्तों का पानी पीने के फायदे (फोटो - sportskeeda hindi)
पान के पत्तों का पानी पीने के फायदे (फोटो - sportskeeda hindi)

हर कोई चाहता है कि उसकी सेहत हमेशा अच्छी बनी रहे। इसके लिए आप कई तरीके अपनाते रहते हैं। ऐसे में पान सेहत के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। कई लोग पान चूना लगाकर खाना पसंद करते हैं, लेकिन अगर आप पान का पानी पीते हैं तो इससे सेहत को बहुत फायदा होता है। अगर आप पान के पत्तों betel leaf को पानी में उबालकर पीते हैं तो इससे शरीर में कफ दोष को दूर किया जा सकता है। इसके साथ ही यह सर्दी-जुकाम और खांसी से राहत दिला सकता है। जानते हैं पान के पत्तों का पानी betel leaf water पीने के फायदे।

पान के पत्तों का पानी पीने के 5 फायदे : Paan Ke Patte Ka Pani Pine Ke 5 Fayde In Hindi

पाचन को दुरुस्त रखता है - अगर आप पान के पत्तों का पानी पीते हैं तो इससे व्यक्ति का पाचन Digestion सही रहता है। इसके सेवन से दस्त, उल्टी, डायरिया से आराम मिलता है। अगर आपको इस तरह की समस्या महसूस हो रही है तो आप पान के पत्तों से पानी तैयार करके पिएं।

सर्दी जुकाम से आराम - सर्दी-जुकाम और खांसी की समस्या से राहत पाने के लिए पान के पत्तों का पानी फायदेमंद हो सकता है। इसके सेवन से गले में खराब और कफ को भी दूर करने में मदद मिलती है। पान के पत्तों में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण गले की सूजन से राहत दिलाता है। वहीं, छाती में जमा कफ को बाहर निकालने में असरदार होता है।

कब्ज की परेशानी दूर करने के लिए - कब्ज acidity की परेशानी की समस्या को दूर करने के लिए ये पानी पीना बहुत अच्छा माना जाता है यह मल त्यागने की समस्या को कम करता है। साथ ही शरीर की सूजन से भी राहत दिला सकता है।

मुंह की गंध से राहत दिलाता है - मुंह की गंध mouth smell से राहत पाने के लिए आप पान के पत्तों से तैयार पानी का सेवन कर सकते हैं। पान की पत्तियां मुंह से आने वाले गंध को दूर करता है।

डायबिटीज कंट्रोल करने के लिए - पान की पत्तियों से तैयार पानी पीने से ब्लड में शुगर blood sugar का स्तर कंट्रोल होता है, जो डायबिटीज में होने वाली परेशानियों को कम कर सकता है। ऐसे में यह पानी डायबिटीज रोगियों के लिए हेल्दी साबित होता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment