Create

पेट में सूजन के घरेलू उपचार : Pet Mein Sujan Ke Gharelu Upchar

पेट में सूजन के घरेलू उपचार (source - sportskeeda hindi)
पेट में सूजन के घरेलू उपचार (source - sportskeeda hindi)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

गैस्ट्रिटिस (Gastritis) एक शब्द है जो किसी भी स्थिति को संदर्भित करता है जो पेट में सूजन होने से होती है। बहुत अधिक शराब पीना, दर्द की दवा का अति प्रयोग और एच. पाइलोरी (H. pylori) बैक्टीरिया सभी गैस्ट्राइटिस का कारण बन सकते हैं। आम लक्षण मतली, उल्टी, और पेट में एक सनसनी और सूजन होना है। पेट में सूजन की तकलीफ वाले अधिकांश लोग इसका इलाज कर सकते हैं और अपने लक्षणों से राहत पा सकते हैं। आपको डॉक्टर को संपर्क करने और उपचार योजना बनाने की आवश्यकता है, लेकिन चिंता ना करें, घरेलू उपचार के साथ पेट की सूजन का इलाज करने के तरीके भी हैं।

पेट में सूजन के घरेलू उपचार : Pet Mein Sujan Ke Gharelu Upchar In Hindi

एंटी-इंफ्लेमेटरी आहार (Anti-inflammatory diet)

आप ऐसे खाद्य पदार्थ खाने का विकल्प चुन सकते हैं जो सूजन को कम करते हैं और उन खाद्य पदार्थों से बचें जो आपके पेट की परत को परेशान करने के लिए ट्रिगर करते हैं। भारी प्रोसेस्ड (Processed) और प्रेसेर्वड (Preserved) खाद्य पदार्थ, उच्च लस सामग्री वाले खाद्य पदार्थ, खाद्य पदार्थ जो अम्लीय हैं, डेयरी खाद्य पदार्थ, चीनी में उच्च खाद्य पदार्थ का सेवन ना करें।

लहसुन का अर्क (Garlic extract)

दुनिया की कम से कम 50 प्रतिशत आबादी के पास पहले से ही उनके पाचन तंत्र में एच.पाइलोरी (H pylori) है, जो गैस्ट्रिटिस का कारण बनने वाले बैक्टीरिया का स्ट्रेस है। जब गैस्ट्रिटिस एच. पाइलोरी के कारण होता है, तो लहसुन का अर्क इन जीवाणुओं से छुटकारा पाने में मदद कर सकता है।

प्रोबायोटिक्स (Probiotics)

प्रोबायोटिक्स आपके पाचन में सुधार कर सकते हैं और आपके मल त्याग को नियमित रख सकते हैं। प्रोबायोटिक सप्लीमेंट लेने से आपके पाचन तंत्र में अच्छे बैक्टीरिया आ जाएंगे, जो एच.पाइलोरी के फैलाव को रोक देंगे और आपकी आंत को ठीक करने की प्रक्रिया शुरू करने में मदद करेंगे। दही (Yogurt) जैसे प्रोबायोटिक्स का सेवन करें।

मनुका शहद के साथ ग्रीन टी (Green tea with manuka honey)

कच्चे शहद के साथ ग्रीन टी पीने से गैस्ट्रिटिस को ठीक करने के कई संभावित लाभ होते हैं। गर्म पानी पीने से पाचन क्रिया शांत हो जाती है और आपके पेट में पाचन आसान हो जाता है।

एसेंशियल आयल (Essential Oil)

एसेंशियल ऑयल्स जैसे लेमोंग्रस, एच.पाइलोरी को बढ़ने से रोकने में सफल है। एसेंशियल तेलों को एक विसारक (diffuser) के साथ श्वास लेना या वाहक तेल में मिलाकर त्वचा पर लगाया जाता है। एसेंशियल ऑयल्स का सेवन नहीं किया जाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

comments icon
Fetching more content...