इस तेल की 5 बूदें अपनी नाभि में डालें और देखें ये 5 फायदे

इस तेल की 5 बूदें अपनी नाभि में डालें और देखें ये 5 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
इस तेल की 5 बूदें अपनी नाभि में डालें और देखें ये 5 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

नाभि में तेल लगाना पारंपरिक चिकित्सा और आयुर्वेद में निहित एक प्राचीन प्रथा है। जबकि नाभि में तेल लगाने के विशिष्ट लाभों का समर्थन करने के लिए सीमित वैज्ञानिक प्रमाण हैं, कुछ लोग कुछ लाभों का अनुभव करने का दावा करते हैं। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि व्यक्तिगत अनुभव अलग-अलग हो सकते हैं, और किसी भी नए उपाय को आजमाने से पहले स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना हमेशा बुद्धिमानी है। नाभि में तेल लगाने से जुड़े कुछ दावा किए गए लाभ यहां दिए गए हैं:-

इस तेल की 5 बूदें अपनी नाभि में डालें और देखें ये 5 फायदे (Put 5 drops of this oil in your navel and see these benefits in hindi)

त्वचा को मॉइस्चराइज करना

नाभि पर तेल लगाने से आसपास की त्वचा को मॉइस्चराइज करने में मदद मिल सकती है, खासकर शुष्क मौसम के दौरान या यदि आपकी त्वचा शुष्क है। तेल एक प्राकृतिक ईमोलिएंट के रूप में कार्य करता है, जो त्वचा को हाइड्रेटेड और कोमल बनाए रखने में मदद करता है।

मासिक धर्म की ऐंठन से राहत

कुछ लोगों का मानना है कि विशिष्ट तेल, जैसे लैवेंडर या पेपरमिंट जैसे आवश्यक तेलों को नाभि पर लगाने से मासिक धर्म में ऐंठन को कम करने में मदद मिल सकती है। हालाँकि, इस दावे की पुष्टि के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है।

नाभि के संक्रमण को कम करना

टी ट्री के तेल या नीम के तेल जैसे कुछ तेलों में जीवाणुरोधी और एंटीफंगल गुण होते हैं। नाभि में इन तेलों की थोड़ी मात्रा लगाने से उस क्षेत्र में संक्रमण के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है।

पाचन में सहायता करना

पारंपरिक चिकित्सा के अनुसार, अदरक या अरंडी के तेल जैसे कुछ तेलों से नाभि की मालिश करने से पाचन को उत्तेजित करने और पाचन संबंधी परेशानी को कम करने में मदद मिल सकती है। हालाँकि, इस दावे का समर्थन करने वाले वैज्ञानिक प्रमाणों की कमी है।

विश्राम और नींद को बढ़ावा देना

कुछ लोगों को पता चलता है कि शांत करने वाले तेल, जैसे लैवेंडर या कैमोमाइल, को नाभि पर लगाने से आराम मिलता है और नींद की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है। इन तेलों की सुगंध मन और शरीर पर सुखदायक प्रभाव डाल सकती है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि नाभि पर त्वचा अपेक्षाकृत संवेदनशील होती है, और कुछ व्यक्तियों को सीधे क्षेत्र में तेल लगाने पर जलन या एलर्जी का अनुभव हो सकता है। नाभि पर किसी भी तेल का उपयोग करने से पहले पैच टेस्ट करने की सलाह दी जाती है और यदि कोई प्रतिकूल प्रतिक्रिया होती है तो इसका उपयोग बंद कर दें।

अंत में, जबकि नाभि में तेल लगाना कुछ निश्चित लाभों के साथ एक पारंपरिक अभ्यास है, इन विशिष्ट लाभों का समर्थन करने वाले वैज्ञानिक प्रमाण सीमित हैं। किसी भी नए उपचार या उपायों को आजमाने से पहले व्यक्तिगत सलाह के लिए स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर या त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श करना हमेशा सर्वोत्तम होता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now