Create

छाती में भारीपन व दर्द: Chaati Mein Bhaaripan Aur Dard 

छाती में भारीपन और दर्द सिर्फ हार्ट अटैक में नहीं होता है (फोटो: नवभारत टाइम्स)
छाती में भारीपन और दर्द सिर्फ हार्ट अटैक में नहीं होता है (फोटो: नवभारत टाइम्स)
Amit Shukla

छाती में दर्द किसी को भी हो सकता है और ये परेशानी वक्त के साथ बढ़ सकती है। ऐसे कई लोग हैं जिन्हें कोई दिल की परेशानी नहीं है लेकिन फिर भी उनकी छाती में दर्द होता है या भारीपन लगता है। इसके पीछे एक बड़ी वजह ये है कि ऐसे लोग अपने खान पान को ठीक नहीं रख पाते हैं और ऐसी परेशानियों से दो चार हो जाते हैं।

छाती में दर्द होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं जिनमें से सेहत में हो रहा बदलाव सबसे अहम है। अगर आपके शरीर में कोई भी आकस्मिक बदलाव हो रहा है तो उसका प्रभाव आपके शरीर में देखने को मिलेगा। ऐसी स्थिति में आपको अपना ध्यान रखना चाहिए क्योंकि एक गलती भी भारी हो सकती है।

क्या आप पाचन को ठीक करके इस परेशानी को खत्म कर सकते हैं? जी हाँ, इस परेशानी को कुछ हद तक ठीक करने में आपका सही खान पान एक अच्छा कदम है लेकिन बड़ा सवाल ये है कि हम में से कितने लोग अपने पाचन को ठीक रख पाते हैं? अगर आप भी इस सवाल ये जवाब में शांत हैं तो आप जवाब खुद जानते हैं। ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि क्या है छाती में भारीपन और दर्द का कारण? आइए जानते हैं।

छाती में भारीपन व दर्द: Chaati Mein Bhaaripan Aur Dard

गैस की समस्या: Gas ki samasya

ऐसे कई लोग हैं जिन्हें बेहद अधिक मात्रा में गैस बनती है। ये लोग खाने को चाहे कितने भी समय खाएं लेकिन उससे पेट में गैस बनने की समस्या खत्म नहीं होती है। अगर आप भी इस परेशानी से दो चार हो रहे हैं तो आज ही इलाज करवाएं क्योंकि उससे लाभ होगा और आपकी सेहत ठीक रहेगी।

अधिक खाना: Over Eating

ऐसा ना सोचें कि सिर्फ गैस से ही परेशानी होती है। अगर आप अधिक भोजन कर लेते हैं तो भी आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इस स्थिति में आपको ये सोचना चाहिए कि क्या अधिक खाना वाकई में जरूरी है या सिर्फ लज्जतों के कारण आप ऐसा कर रहे हैं? अगर लज्जत इसका कारण है तो आप जानते हैं कि आपको क्या करना चाहिए।

सांस से जुड़ी दिक्कत: Breathing issues

सांस से जुड़ी कोई भी दिक्कत होने का अर्थ है कि आपकी सेहत खराब होगी। वैसे भी सांस में दिक्कत हो रही है तो इसके काफी बुरे परिणाम देखने को मिल सकते हैं। आपको इस स्थिति में अपनी सांसों को नियंत्रित और एक्सपर्ट्स से अवश्य पूछना चाहिए। एक गलती दिल के साथ साथ जान का खतरा भी बन सकती है।

(डिस्क्लेमर: प्रस्तुत लेख में सुझाए गए टिप्स और सलाह केवल आम जानकारी के लिए है, इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रुप में नहीं लिया जा सकता। कोई भी स्टेप लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर कर लें।)


Edited by Amit Shukla

Comments

comments icon
Fetching more content...