Create

स्वास्थ्य इम्यूनिटी के लिए अपनाएं योग

स्वास्थ्य इम्यूनिटी के लिए अपनाएं योग (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
स्वास्थ्य इम्यूनिटी के लिए अपनाएं योग (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

हमारे शरीर में इम्युनिटी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह वायरस, बैक्टीरिया से लड़ती है और हमें बीमारियों से बचती है। वर्षों से, चिकित्सकों ने इम्युनिटी के निर्माण के महत्व पर जोर दिया है, जिसे एक स्वस्थ जीवन शैली अपनाकर प्राप्त किया जा सकता है। पौष्टिक आहार, स्वस्थ नींद की आदतें और योग जैसी शारीरिक गतिविधि हमारे शरीर के प्राकृतिक रक्षा तंत्र को बढ़ाती है। योग सिर्फ एक व्यायाम से बढ़कर है। यह शारीरिक व्यायाम, आहार नियंत्रण, सांस लेने की तकनीक और एकाग्रता का एक संयोजन है, जो शरीर को मजबूत करता है और मन को आराम देता है। यह बदले में, प्रतिरक्षा में सुधार करता है। स्वास्थ्य व इम्युनिटी के रख-रखाव के लिए योग को अपनाएं। यह लेख आपको कुछ आसनों के बारे में बताने जा रहा है जो ऐसे में उपयोगी होंगे।

स्वास्थ्य इम्यूनिटी के लिए अपनाएं योग - Swasthy Immunity Ke Liye Apnayein Yog In Hindi

1. ससकासन (Sasakasana)

खरगोश मुद्रा (rabbit pose) के रूप में भी जाना जाता है, यह तनाव को कम करने के लिए एकदम सही योग मुद्रा है। यह सिर तक रक्त को पहुंचाने का काम करता है, जो तनाव को भी दूर करने में मदद करता है। यह रीढ़ को भी मजबूत करता है, इम्युनिटी और अंतःस्रावी तंत्र को उत्तेजित करते हुए पीठ और कंधों को फैलाता है।

2. शवासन (Shavasana)

लाश मुद्रा (corpse pose) के रूप में भी जाना जाता है, यह चिंता और ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है। यह अनिद्रा के इलाज में भी कारगर है। इस स्थिति में आपको केवल सांस लेने पर ध्यान केंद्रित करते हुए अपने दिमाग और शरीर को पूरी तरह से आराम करने की आवश्यकता होती है।

3. नादिशोधन प्राणायाम (Nadishodhana Pranayama)

इसे अलटरनेट नॉस्ट्रिल ब्रीथिंग के रूप में भी जाना जाता है। यह एक शक्तिशाली श्वास अभ्यास है जो तनाव और चिंता को कम करते हुए श्वसन प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है। यह सूक्ष्म ऊर्जा चैनलों को भी शुद्ध और संतुलित करता है, जिससे शरीर के माध्यम से प्राण (life force) का सुचारू प्रवाह सुनिश्चित होता है।

4. कपालभाति प्राणायाम (Kapalabhati Pranayama)

इस आसन में जोर से सांस लेना शामिल है, जो फेफड़ों को मजबूत करता है और इसकी क्षमता को बढ़ाता है। कपालभाति का नियमित अभ्यास हृदय और फेफड़ों से रुकावटों को दूर करने में मदद करता है। यह साइनस (frontal sinuses) को साफ करने में भी मदद करता है।

5. त्रिकोणासन (Trikonasana)

यह त्रिकोण मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है, यह पूरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को उत्तेजित और बेहतर बनाने में मदद करता है। यह ब्लड प्रेशर, तनाव और चिंता को भी कम करता है।

6. उष्ट्रासन (Ushtrasana)

यह ऊंट मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है, यह ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है और थायरॉइड ग्रंथि को उत्तेजित करता है। यह रीढ़ की हड्डी को मजबूत करने और तंत्रिका तंत्र को शांत करने में भी मदद करता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

comments icon
Fetching more content...