Create

जानिए क्या है डेंगू के लक्षण- Dengue ke Lakshan in Hindi

जानिए क्या है डेंगू के लक्षण(फोटो:pexels)
जानिए क्या है डेंगू के लक्षण(फोटो:pexels)

डेंगू (Dengue) का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है, यह एक गंभीर बीमारी है, जो एडीज एजिप्टि (Aedes aegypti) नामक प्रजाति के मच्छरों के काटने से फैलता है। इसके कारण हर साल अनेक लोगों की मौत हो रही है। जब कोई मच्छर डेंगू बुखार से ग्रसित किसी रोगी को काटता है, और फिर वही मच्छर जब किसी स्वस्थ व्यक्ति को काट लेता है, तो वायरस स्वस्थ व्यक्ति के खून में पहुंच जाता है। इससे स्वस्थ व्यक्ति को भी डेंगू बुखार हो जाता है। मच्छर के एक बार काटने से भी डेंगू होने की संभावना रहती है। डेंगू में कई लोग तो आसानी से ठीक हो जाते हैं लेकिन, कई मरीजों की हालत बेहद खराब हो जाती है। ऐसे में डेंगू के लक्षण (Symptoms Of Dengue) के बारे में जानना बेहद जरूरी है।

डेंगू के लक्षण Symptoms Of Dengue in Hindi

डेंगू के तीन प्रकार होते हैं, क्लासिकल डेंगू, डेंगू हमरेडिक बुखार (DHF) और डेंगू शॉक सिंड्रोम (DSS)

क्लासिकल (साधारण) डेंगू (Classical dengue fever)

क्लासिकल (साधारण) डेंगू बुखार में ठंड लगने लगती है और अचानक बुखार चढ़ना शुरू हो जाता है, इसके साथ ही सिरदर्द, जोड़ों में दर्द, आखों के पिछले भाग में दर्द होना, अत्यधिक कमजोरी लगना, भूख में बेहद कमी और मुंह के स्वाद का खराब होना जैसे लक्षण होते हैं। इसे सामान्य माना जाता है और 5-7 दिन के बाद रोगी ठीक हो जाता है।

डेंगू हमरेडिक बुखार (Dengue Hemorrhagic Fever)

डेंगू हमरेडिक बुखार में व्यक्ति को नाक से खून आना, मसूड़ों से खून आना, शौच व उल्टी में खून आना, स्किन पर नीले-काले रंग के चकत्ते पड़ जाना आदि लक्षण आने लगते हैं। इसके अलावा इसमें ब्लड प्लेटलेट्स भी कम होना शुरू हो जाता है।

डेंगू शॉक सिंड्रोम (Dengue shock syndrome)

डेंगू शॉक सिंड्रोम में सामान्य डेंगू के साथ कई दूसरे लक्षण भी आ जाते हैं। इस स्थिति में बेचैनी काफी ज्यादा होने लगती है और बुखार काफी तेज हो जाता है। इस स्टेज में तेज बुखार के बाद भी त्वचा ठंड महसूस होती है। इस स्थिति में आने के बाद मरीज धीरे-धीरे होश खोने लगता है। साथ ही रोगी की नाड़ी तेज और कमजोर महसूस होती है। रोगी का ब्लड प्रेशर भी कम होने लगता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Ritu Raj
Be the first one to comment