Create

इमली ही नहीं इसके बीज भी होते हैं फायदेमंद, जानिए इससे जुड़े कुछ फायदे-नुकसान

इमली के बीज के फायदे और नुकसान (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
इमली के बीज के फायदे और नुकसान (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

बचपन से ही इमली (Tamarind) का स्वाद सभी को याद है। खाने में इमली भले ही खट्टी लगती हो, लेकिन सभी को बहुत अच्छी लगती है। आमतौर पर लोग इमली की चटनी बनाते हैं और बहुत पसंद से खाते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि इमली के जैसे इमली के बीजों के भी अनेक स्वास्थ लाभ होते हैं। इमली के साथ ही इसके काले और चमकदार बीजों में भी कई औषधीय गुण पाए जाते हैं, जाे विभिन्न शारीरिक समस्याओं पर सकारात्मक प्रभाव प्रदर्शित कर सकते हैं। इस लेक में आप इमली के बीज (Tamarind Seeds) के फायदों और नुकसान के बारे में जानपाएंगे।

इमली ही नहीं इसके बीज भी होते हैं फायदेमंद, जानिए इससे जुड़े कुछ फायदे-नुकसान : Tamarind Seeds Benefits And Side-Effects In Hindi

इमली के बीज के फायदे - Benefits Of Tamarind Seeds In Hindi

1. आंखों के लिए (Benefits the eyes)

इमली के बीज का उपयोग आंखों के लिए घरेलू उपचार के रूप में किया जा सकता है। दरअसल, इसके बीज से प्राप्त पॉलीसैकराइड (Polysaccharide) नामक घटक का उपयोग आंखों में ड्राॅप के रूप में किया जा सकता है।

2. दस्त की समस्या में (Cures Constipation)

इमली के बीज का उपयोग औषधि के रूप में दस्त की समस्या को दूर करने में फायदेमंद हो सकता है। इमली के बीज से प्राप्त अर्क में जायलोग्लूकन (Xyloglucan) नामक घटक पाया जाता है। इस अर्क का उपयोग एक्यूट डायरिया की समस्या को कुछ हद तक ठीक करने में मददगार हो सकता है।

3. इम्यूनिटी सुधारने के लिए (Treats immunity)

छोटी-मोटी शारीरिक समस्या का लंबे समय तक बने रहना प्रतिरक्षा प्रणाली के कमजोर होने का संकेत हो सकता है। यहां इमली के बीज रोग प्रतिरक्षा क्षमता में सुधार का काम कर सकते हैं।

4. मधुमेह में (Diabetes)

रक्त में शुगर का स्तर बढ़ने से मधुमेह की समस्या हो सकती है। इमली के बीज के अर्क में शक्तिशाली एंटीडायबेटोजेनिक (Antidiabetogenic) गुण मौजूद होते हैं। ये गुण रक्त में मौजूद शुगर के स्तर को कम करने में फायदेमंद पाए गए।

5. गठिया की समस्या में (Treats arthritis)

गठिया की समस्या की वजह से होने वाला दर्द परेशानी का कारण बन सकता है। इमली के बीज का उपयोग इस समस्या को कुछ हद तक कम करने में फायदेमंद माना गया है। इसमें मौजूद एंटी-अर्थराइटिस गुण गठिया से बचाव और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण प्रभावित क्षेत्र की सूजन को कम करने में फायदेमंद माने गए हैं।

6. अल्सर में (Treats ulcer)

पेट में अल्सर की समस्या दर्दनाक हो सकती है। इस समस्या में इमली के बीज का उपयोग फायदेमंद साबित हो सकता है। इमली के बीज में प्रोपेनिडिन, एपिक्टिन और पोलिमेरिक टैनिन नामक पॉलीफेनोलिक यौगिक पाए जाते हैं। ये सभी यौगिक अल्सर के विरुद्ध काम करते हैं। इसके अलावा, इमली के बीज से प्राप्त टैनिन भी अल्सर के विकास को रोकने में मददगार हो सकते हैं।

इमली के बीज के नुकसान - Side Effect Of Tamarind Seeds In Hindi

- इमली के बीज में टैनिन के साथ ही अन्य हानिकारक यौगिक होते हैं, जो पाचन को मुश्किल बना सकते हैं। इससे पेट की समस्या खड़ी हो सकती है।

- इसमें पाए जाने वाले एसिडिक तत्वों के कारण लंबे समय तक उपयोग करने पर यह दांतों (Teeth problem) की समस्या का कारण बन सकता है।

- सीधे तौर से बीज का सेवन करने पर अवसाद (Depression), कब्ज (Constipation)और आंतों (Intestine) की समस्या के रूप में इमली के बीज के नुकसान देखने को मिल सकते हैं।

youtube-cover

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment