ये हैं आपके दिल पर पड़ने वाले चिंता के हानिकारक प्रभाव!

These Are The Harmful Effects Of Worrying On Your Heart!
ये हैं आपके दिल पर पड़ने वाले चिंता के हानिकारक प्रभाव!

चिंता करना तनाव के प्रति एक स्वाभाविक मानवीय प्रतिक्रिया हो सकती है, लेकिन जब यह एक पुरानी स्थिति बन जाती है, तो यह आपके स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है। शोध से पता चला है कि चिंता करने से आपके दिल पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है, जिससे हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है।

हृदय रोग स्थितियों का एक समूह है जो हृदय और रक्त वाहिकाओं को प्रभावित करता है, जिसमें दिल का दौरा, स्ट्रोक और दिल की विफलता शामिल है। यह दुनिया भर में मौत का प्रमुख कारण है, जो वैश्विक स्तर पर होने वाली सभी मौतों के 31% के लिए जिम्मेदार है।

चिंता प्रतिक्रिया प्रणाली की सक्रियता को बाधित कर सकत है!

जब आप तनाव का अनुभव करते हैं, तो आपका शरीर एड्रेनालाईन और कोर्टिसोल जैसे तनाव हार्मोन जारी करता है, जो आपकी हृदय गति, रक्तचाप और श्वसन दर को बढ़ा सकता है। समय के साथ, तनाव प्रतिक्रिया प्रणाली की पुरानी सक्रियता से सूजन, एथेरोस्क्लेरोसिस और रक्त वाहिकाओं के अस्तर को नुकसान हो सकता है।

youtube-cover

चिंता हृदय रोग के जोखिम को बढ़ा सकता हैं।

उदाहरण के लिए, जो लोग बहुत अधिक चिंता करते हैं, उनके धूम्रपान और अधिक खाने-पीने जैसे व्यवहारों में संलग्न होने की संभावना अधिक हो सकती है, जो हृदय रोग के लिए सभी जोखिम कारक हैं।

चिंता करना आपके मानसिक स्वास्थ्य पर भी भारी पड़ सकता है।

लगातार चिंता करने से चिंता और अवसाद हो सकता है, जो हृदय रोग के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है। उदाहरण के लिए, अवसाद से ग्रस्त लोगों में बिना अवसाद वाले लोगों की तुलना में हृदय रोग विकसित होने की संभावना दो से चार गुना अधिक होती है।

अपने हृदय पर चिंता करने के हानिकारक प्रभावों को कम करने के लिए आप क्या कर सकते हैं? यहां कुछ सलाह हैं:

हृदय पर चिंता करने के हानिकारक प्रभाव!
हृदय पर चिंता करने के हानिकारक प्रभाव!

तनाव कम करने वाली तकनीकों का अभ्यास करें: ध्यान, गहरी सांस लेने और योग जैसी तनाव कम करने वाली तकनीकें आपको आराम करने और आपकी तनाव प्रतिक्रिया प्रणाली की सक्रियता को कम करने में मदद कर सकती हैं।

नियमित रूप से व्यायाम करें: व्यायाम तनाव और चिंता को कम करने के लिए दिखाया गया है और आपके समग्र हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

स्वस्थ आहार खाएं: फलों, सब्जियों, साबुत अनाज और लीन प्रोटीन से भरपूर आहार खाने से हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है।

पर्याप्त नींद लें: लगातार नींद की कमी हृदय रोग के बढ़ते जोखिम से जुड़ी हुई है, इसलिए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आप हर रात पर्याप्त नींद ले रहे हैं।

जरूरत पड़ने पर मदद लें: यदि आप पुरानी चिंता, चिंता या अवसाद से जूझ रहे हैं, तो मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से मदद लेना जरूरी है। वे आपके लक्षणों को प्रबंधित करने और हृदय रोग के जोखिम को कम करने के लिए रणनीति विकसित करने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now