ये है देर रात तक लगातार टीवी देखने के दुष्प्रभाव: मानसिक स्वास्थ्य 

 These are the side effects of watching TV continuously till late night: Mental health
ये है देर रात तक लगातार टीवी देखने के दुष्प्रभाव: मानसिक स्वास्थ्य

टेलीविजन आधुनिक जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है, और बहुत से लोग सोने से पहले अपने पसंदीदा शो देखना पसंद करते हैं। हालांकि, शोध से पता चला है कि देर रात टीवी देखने से मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

इस लेख में हम कुछ ऐसे तरीकों की खोज करेंगे जिनसे देर रात तक टीवी देखना मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है।

नींद के पैटर्न को बाधित करता है

देर रात टीवी देखने के सबसे महत्वपूर्ण प्रभावों में से एक यह है कि यह नींद के पैटर्न को बाधित कर सकता है। टीवी, स्मार्टफोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से निकलने वाली नीली रोशनी के संपर्क में आने से नींद के हार्मोन मेलाटोनिन के उत्पादन में बाधा आ सकती है। यह, बदले में, सो जाना कठिन बना सकता है, सोता रह सकता है, और तरोताजा महसूस कर सकता है।

नींद की कमी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं की एक विस्तृत श्रृंखला से जुड़ी है, जिसमें अवसाद, चिंता, चिड़चिड़ापन और संज्ञानात्मक हानि शामिल हैं। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को भी कमजोर कर सकता है, जिससे लोग बीमारी और बीमारी के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं।

तनाव के स्तर को बढ़ाता है

देर रात टीवी देखने से भी तनाव का स्तर बढ़ सकता है। कई शो और फिल्में रोमांचक और आकर्षक होने के लिए डिज़ाइन की गई हैं, जो तनाव हार्मोन कोर्टिसोल की रिहाई को ट्रिगर कर सकती हैं। जब कोर्टिसोल का स्तर अधिक होता है, तो लोग अधिक चिंतित, बेचैन और किनारे पर महसूस कर सकते हैं।

youtube-cover

इसके अतिरिक्त, सोने से पहले परेशान करने वाली या हिंसक सामग्री देखने से दुःस्वप्न या दखल देने वाले विचार पैदा हो सकते हैं जो नींद को बाधित करते हैं और चिंता या भय की भावनाओं में योगदान करते हैं।

उत्पादकता कम करता है

देर रात तक टीवी देखने का एक और प्रभाव उत्पादकता में कमी है। जो लोग देर तक टीवी देखते रहते हैं, वे अगले दिन थका हुआ और ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते हैं, जिससे कार्यों को पूरा करना या अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना कठिन हो जाता है।

इसके अतिरिक्त, टीवी देखने के लिए देर तक रहने से प्रेरणा की कमी और आलस्य की भावना पैदा हो सकती है जो जीवन के अन्य क्षेत्रों में फैल सकती है। जो लोग नियमित रूप से देर तक टीवी देखते रहते हैं, उन्हें व्यायाम करने, स्वस्थ खाने या अन्य उत्पादक गतिविधियों में संलग्न होने के लिए ऊर्जा और प्रेरणा खोजने में कठिनाई हो सकती है।

अवसाद और अकेलेपन में योगदान देता है

अध्ययनों से यह भी पता चला है कि अत्यधिक टीवी देखना, विशेष रूप से अलगाव में, अवसाद और अकेलेपन की भावनाओं में योगदान कर सकता है। जो लोग टीवी देखने में बहुत समय बिताते हैं, वे सामाजिक मेलजोल से वंचित रह सकते हैं, जिससे अलगाव और वियोग की भावना पैदा हो सकती है।

अवसाद और अकेलेपन में योगदान!
अवसाद और अकेलेपन में योगदान!

इसके अतिरिक्त, कई टीवी शो जीवन के आदर्श संस्करणों को दर्शाते हैं जो दर्शकों को अपने स्वयं के जीवन से अपर्याप्त या असंतुष्ट महसूस करवा सकते हैं। यह अवसाद और कम आत्मसम्मान की भावनाओं में योगदान कर सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now