गैस से राहत के लिए टॉप 5 शुरुआती-अनुकूल योगासन!

Top 5 Beginner-Friendly Yoga Poses For Gas Relieve!
गैस से राहत के लिए टॉप 5 शुरुआती-अनुकूल योगासन!

योग एक समग्र अभ्यास है जो न केवल शरीर को लाभ पहुंचाता है बल्कि समग्र कल्याण को भी बढ़ावा देता है। यदि आप अक्सर खुद को गैस और सूजन से जूझते हुए पाते हैं, तो विशिष्ट योगासनों को अपनी दिनचर्या में शामिल करने से असुविधा को कम करने में मदद मिल सकती है। यहां कुछ आसान और शुरुआती-अनुकूल योग आसन हैं जो गैस से राहत में सहायता कर सकते हैं और स्वस्थ पाचन तंत्र में योगदान दे सकते हैं।

निम्नलिखित इन 5 योग आसन पर ध्यान दें:

1. बच्चे की मुद्रा (बालासन):

अपने बड़े पैर की उंगलियों को छूते हुए और घुटनों को कूल्हे की चौड़ाई से अलग रखते हुए चटाई पर घुटने टेककर शुरुआत करें।

youtube-cover

अपने धड़ को अपनी जाँघों के बीच नीचे लाएँ और अपनी भुजाओं को आगे की ओर फैलाएँ, जहाँ तक आरामदायक हो।

अपने माथे को चटाई पर टिकाएं और गहरी, लयबद्ध सांस लेने पर ध्यान केंद्रित करें।

चाइल्ड पोज़ पेट की मांसपेशियों को खिंचाव और आराम देने में मदद करता है, जिससे फंसी हुई गैस को बाहर निकलने में मदद मिलती है।

2. पवनमुक्तासन:

पैरों को फैलाकर अपनी पीठ के बल लेटने से शुरुआत करें।

साँस लें और एक घुटने को अपनी छाती की ओर लाएँ, अपने हाथों को उसके चारों ओर पकड़ें।

कुछ सांसें रोकें, फिर पैर बदल लें।

यह आसन पेट के अंगों की मालिश करने, गैस को बाहर निकालने और सूजन से राहत दिलाने में मदद करता है।

3. मार्जरीआसन-बिटिलासन:

टेबलटॉप स्थिति में अपने हाथों और घुटनों से शुरुआत करें।

श्वास लें, अपनी पीठ झुकाएँ और अपना सिर उठाएँ (गाय मुद्रा)।

साँस छोड़ें, अपनी रीढ़ को गोल करें, और अपनी ठुड्डी को अपनी छाती से लगाएँ (कैट पोज़)।

प्रवाह को कई बार दोहराएं, क्योंकि यह पाचन को उत्तेजित करने और गैस से संबंधित परेशानी को कम करने में मदद करता है।

4. आगे की ओर झुककर बैठना (पश्चिमोत्तानासन):

अपने पैरों को सामने फैलाकर बैठें।

सांस लें, अपनी रीढ़ को लंबा करें, फिर सांस छोड़ें और अपने पैरों की उंगलियों तक पहुंचने के लिए अपने कूल्हों पर झुकें।

अपनी रीढ़ और हैमस्ट्रिंग में खिंचाव महसूस करते हुए कुछ सांसें रोकें।

यह मुद्रा पेट के अंगों को संपीड़ित और मालिश करके गैस से राहत दिलाने में मदद कर सकती है।

5. सुपाइन ट्विस्ट (सुप्त मत्स्येन्द्रासन):

सुप्त मत्स्येन्द्रासन!
सुप्त मत्स्येन्द्रासन!

अपनी पीठ के बल लेट जाएं और अपने घुटनों को अपनी छाती की ओर लाएं।

अपनी भुजाओं को टी-आकार में भुजाओं तक फैलाएँ और धीरे से अपने घुटनों को एक तरफ नीचे करें।

कुछ सांसों के लिए मोड़ को रोके रखें, फिर दूसरी तरफ जाएं।

सुपाइन ट्विस्ट पाचन अंगों को सिकुड़ने, गैस निकलने को बढ़ावा देने और पाचन में सुधार करने में मदद करता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।