Create

पीठ के निचले हिस्से में खिंचाव का इलाज कैसे करें- Pith ke Nichle hisse me Khichav ka ilaj kaise kare

पीठ के निचले हिस्से में खिंचाव का इलाज कैसे करें
पीठ के निचले हिस्से में खिंचाव का इलाज कैसे करें

Treatment of lower back Strain in hindi : पीठ दर्द की समस्या में काफी असहज महसूस होता है। पीठ में अलग-अलग तरह का दर्द देखने को मिलता है। कई बार गर्दन में दर्द रहता है, तो कई बार पीठ के ऊपरी हिस्से में दर्द रहता है। इसके साथ ही मिड बैक पेन, पीठ के निचले हिस्से में भी दर्द हो सकता है। इन दर्द के कई कारण हो सकते हैं। लैपटॉप के सामने घंटों बैठना, सीधा होकर न बैठना, गलत पोजीशन में सोने पर भी दर्द की समस्या हो सकती है। इसके साथ ही कई बार जब हम भारी सामान उठा देते हैं, ज्यादा मेहनत कर लेते हैं ,तो कमर में खिंचाव की समस्या हो जाती है। कई बार अचानक उठने या झुकने में भी कमर में खिंचाव की समस्या हो सकती है। ऐसे में कुछ तरीकों को अपना कर इससे छुटकारा पाया जा सकता है।

लोअर बैक स्ट्रेन का इलाज क्या है?

बर्फ की सिकाई (Ice in Low Back Strain)- चोट लगने के साथ ही दर्द और सूजन की समस्या में बर्फ की सिकाई करना काफी फायदेमंद होता है। इससे जल्द आराम मिलने में मदद मिलती है। पीठ के निचले हिस्से में आए खिंचाव को दूर करने के लिए बर्फ की सिकाई कर सकते हैं। इसके लिए 2-3 दिनों तक हर 3-4 घंटे में 20-30 मिनट तक सिकाई कर सकते हैं।

गर्म सिकाई (Apply heat to your back)-

अगर आप बर्फ की सिकाई कर रहे हैं तो फिर गर्म सिकाई के लिए कम से कम 2-3 दिनों का गैप रखें। इसके बाद ही हीट बैक सिकाई करें। पीठ के निचले हिस्से में खिंचाव से राहत पाने के लिए इलैक्ट्रिक हीटिंग पैड या गर्म पानी की बोतल का उपयोग कर सकते हैं। या आप सिर्फ गर्म स्नान करने से भी राहत मिल सकता है।

योग (Yoga for Low Back Strain)

मजबूत मांसपेशियां, विशेष रूप से आपके पेट के कोर में, आपकी पीठ को सहारा देने में मदद करती हैं। ताकत और लचीलापन दोनों आपके दर्द को दूर करने और इसे रोकने में मदद कर सकते हैं। पीठ के निचले हिस्से में खिंचाव की समस्या को दूर करने के लिए योग करना काफी लाभदायक साबित हो सकता है। कई ऐसे योग है जो आपके कोर और आपके कूल्हों के आसपास की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Ritu Raj
Be the first one to comment