Create

यूरिक एसिड को करना है कंट्रोल, तो जरूर करें नींबू का सेवन-Uric Acid Control Karne Ke Liye Kare Nimbu Ka Sevan

यूरिक एसिड को करना है कंट्रोल, तो जरूर करें नींबू का सेवन(फोटो-Sportskeeda hindi)
यूरिक एसिड को करना है कंट्रोल, तो जरूर करें नींबू का सेवन(फोटो-Sportskeeda hindi)

आजकल की अनियमित जीवनशैली और गलत खान-पान की वजह से ज्यादातर लोग किसी न किसी बीमारी के शिकार हो रहे हैं। उसी में से एक यूरिक एसिड (Uric Acid) की बीमारी है। शरीर में बढ़ता यूरिक एसिड काफी खतरनाक हो सकता है। यूरिक एसिड बढ़ने की वजह से हार्ट, किडनी, गठिया जैसी बड़ी बीमारियां हो सकती है। इसलिए यूरिक एसिड को कंट्रोल करना बहुत जरूरी होता है। यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए नींबू काफी मददगार साबित होता है। क्योंकि नींबू औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इसलिए अगर बढ़ते यूरिक एसिड में आप नींबू का सेवन करते हैं, तो इससे काफी हद तक आराम पा सकते हैं। जानिए यूरिक एसिड बढ़ने पर नींबू के क्या फायदे हैं।

यूरिक एसिड को करना है कंट्रोल, तो जरूर करें नींबू का सेवन (Uric Acid Control Karne Ke Liye Kare Nimbu Ka Sevan In Hindi)

नींबू के फायदे

नींबू (Lemon) का सेवन स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। क्योंकि नींबू औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इसलिए अगर कोई रोजाना नींबू का सेवन करता है, तो इससे कई बीमारियां दूर होती है। नींबू में थियामिन, रिबोफ्लोविन, नियासिन, विटामिन बी- 6, फोलेट और विटामिन-ई जैसे तत्व मौजूद होते हैं। साथ ही नींबू एंटीआक्सीडेंट गुणों से भी भरपूर होता है। इसलिए नींबू का सेवन लिवर, पेट, स्किन जैसी बीमारियों में भी लाभकारी साबित होता है।

यूरिक एसिड होता है कंट्रोल

शरीर में बढ़ता यूरिक एसिड काफी खतरनाक हो सकता है। इसलिए इसको कंट्रोल करने के लिए नींबू का सेवन करना चाहिए। क्योंकि नींबू में विटामिन सी (Vitamin C) की प्रचुर मात्रा पाई जाती है और नींबू एसिडिक प्रभाव पैदा करता है। जिससे शरीर में बढ़ता यूरिक एसिड नेचुरल तरीके से कंट्रोल होने लगता है।

ऐसे करें नींबू का सेवन

यूरिक एसिड के मरीजों को रोजाना एक गिलास नींबू पानी (Lemon Juice) का सेवन करना चाहिए। इसके लिए रोजाना सुबह एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू का रस निचोड़ लेना चाहिए, फिर उसका सेवन कर लेना चाहिए। ऐसा रोजाना नियमित रूप से करने से यूरिक एसिड कंट्रोल हो जाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Rakshita Srivastava
Be the first one to comment