Create

गर्मियों में इन 4 तरह के आटे का करें इस्तेमाल, शरीर को मिलेगी ठंडक : Garmiyon mein in 4 tarah ke aate ka kare istemal, sharir ko milegi thandak

गर्मियों में इन 4 तरह के आटे का करें इस्तेमाल, शरीर को मिलेगी ठंडक (फोटो- Sportskeeda hindi )
गर्मियों में इन 4 तरह के आटे का करें इस्तेमाल, शरीर को मिलेगी ठंडक (फोटो- Sportskeeda hindi )

गर्मी आते ही भूख कम लगना बहुत आम हो जाता है। पेट (Stomach) में बढ़ती गर्मी के कारण खाना खाने का मन नहीं करता। लेकिन अगर आप अपने खाने में थोड़ा परिवर्तन करते हैं तो यह समस्या दूर हो सकती है। इसके लिए आप खाने में कुछ ऐसा शामिल कर सकते हैं जिससे आपको भूख भी लगे और पेट में ठंडक भी मिल पाए, इसके लिए आपको बस गेंहू के आटे के साथ ज्वार, जौ, चना के आटे का भी इस्तेमाल करना होगा, जो पेट में बढ़ती गर्मी से आराम दिलाएगा। ये सभी आटे का सेवन या तो आप अलग-अलग कर सकते हैं, या फिर सभी आटे को साथ में मिलाकर, इसकी रोटी बनाकर भी इसका सेवन कर सकते हैं।

गर्मियों में यह 4 तरह के आटे का करें सेवन

गेहूं आटा (Wheat Flour) - अधिकतर लोग गेंहू के आटे की बनी रोटी खाना पसंद करते हैं, जो आसानी से पचने (Digest) में मददगार साबित होती है। गेंहू की तासीर ठंडी होती है जिससे शरीर को ठंडक पहुंचती हैं। गेहूं का आटा पोषक तत्वों से भरपूर होता है, गेहूं आटे में अगर चोकर मिली हो, तो वह खाने से पाचन क्रिया में सुधार होता है। गेहूं रक्त को भी साफ करता है। इसमें फाइबर(Fiber) की मात्रा अधिक होने से वजन घटाने में मददगार साबित होता है। थायराइड में भी गेहूं का आटा फायदेमंद होता है।

ज्वार का आटा (Jowar Flour) - पोषक तत्वों से भरपूर ज्वार में प्रोटीन (Protein), विटामिन बी कॉम्प्लेक्स और मिनरल्स की प्रचुर मात्रा होती है, इसके अलावा इसमें पोटैशियम, फॉस्फोरस, कैल्शियम (Calcium) और आयरन भी होता है। ज्वार की तासीर ठंडी होती है इसलिए इसका सेवन गर्मियों में किया जा सकता है। पित्त प्रकृति के लोग भी इसका सेवन कर सकते हैं। ज्वार का आटा पित्त और कफ को शांत करता है। ज्वार में कैलोरी (Calorie) की मात्रा कम और पोषण अधिक होता है, इसलिए वजन घटाने में इससे मदद मिलती है। ज्वार के आटे की रोटियां खाने से थकान दूर होती है, शरीर को ताकत मिलती है।

जौ का आटा (Barley Flour)- पोषक तत्वों से भरपूर जौ के पानी का सेवन लोग गर्मियों में पेट को ठंडा रखने के लिए करते हैं। जितना ज्यादा इसका पानी पौष्टिक होता है, उतना ही जौ का आटा का सेवन गर्मीयों में लाभकारी होता है। गर्मियों में इसकी रोटियां बना कर खाने से पेट में ठंडक बनी रहती है जिससे यह गर्मी में होने वाले कील मुहांसों से बचाता है। डायबिटीज (Diabetes) रोगियों के लिए भी जौ की रोटियां लाभकारी साबित होती है।

चने का आटा (Chickpea Flour) - गर्मियों में चने से बना सत्तू का सेवन सभी ने खूब किया होगा। लेकिन क्या आप जानते हैं, गर्मियों में चने के आटे से बनी रोटीयों का सेवन आपके शरीर के लिए कितनी लाभकारी हो सकता है। चने के आटे का सेवन पेट की गर्मी को शांत करता है, कई बार लोग बेसन को ही चने का आटा समझने की भूल कर देते हैं, लेकिन ये बेसन और चने का आटा एक-दूसरे से अलग होते हैं। दरअसल बेसन को रिफाइन कर इसका सारा फाइबर निकाल दिया जाता है। वहीं आटे को छिलके सहित पीसा जाता है, यह बेसन से मोटा होता है और इसमें फाइबर की मात्रा भरपूर होती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Shilki
Be the first one to comment