किस पोषण की कमी के कारण मूड में बदलाव होता है?

What Nutritional Deficiency Causes Mood Swings?
किस पोषण की कमी के कारण मूड में बदलाव होता है?

मूड में बदलाव एक अनचाहा रोलरकोस्टर हो सकता है जो हमारी भावनाओं, ऊर्जा के स्तर और समग्र कल्याण को प्रभावित कर सकता है। हमारे शरीर को बेहतर ढंग से कार्य करने के लिए आवश्यक पोषक तत्वों के संतुलन की आवश्यकता होती है, और जब कुछ प्रमुख तत्वों की कमी होती है, तो इसका हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है। आज हम पोषण की कमी और मूड में बदलाव के बीच के रिश्ते के बारे में विस्तार से बतायेंगे।

निम्नलिखित इन बिन्दुओं के माध्यम से विस्तार से जाने:

1. विटामिन डी:

मूड स्विंग से जुड़ी एक आम पोषण संबंधी कमी विटामिन डी की कमी है। विटामिन डी स्वस्थ मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है। सूर्य के प्रकाश के सीमित संपर्क, आहार प्रतिबंध, या खराब अवशोषण के कारण विटामिन डी का स्तर अपर्याप्त हो सकता है। विटामिन डी का निम्न स्तर अवसाद और चिंता सहित मूड विकारों के बढ़ते जोखिम से जुड़ा है।

अवसाद और चिंता!
अवसाद और चिंता!

2. ओमेगा -3 फैटी एसिड:

ओमेगा-3 फैटी एसिड, विशेष रूप से ईपीए और डीएचए, मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं। ये फैटी एसिड मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर और सूजन को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ओमेगा-3 की कमी को मूड विकारों और तनाव की बढ़ती संवेदनशीलता से जोड़ा गया है। अपने आहार में वसायुक्त मछली, अलसी और अखरोट जैसे ओमेगा-3 के स्रोतों को शामिल करने से बेहतर भावनात्मक कल्याण में योगदान मिल सकता है।

3. बी विटामिन:

बी6, बी12 और फोलिक एसिड सहित बी-विटामिन कॉम्प्लेक्स, न्यूरोट्रांसमीटर संश्लेषण और विनियमन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इन विटामिनों की कमी से मस्तिष्क रसायनों में असंतुलन हो सकता है, जिससे संभावित रूप से मूड में बदलाव, चिड़चिड़ापन और यहां तक कि अवसाद भी हो सकता है। पत्तेदार साग, दुबला मांस और गढ़वाले अनाज जैसे बी-विटामिन के स्रोतों को शामिल करने से इष्टतम स्तर बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

4. आयरन:

आयरन की कमी, जो अक्सर एनीमिया से जुड़ी होती है, मूड पर भी असर डाल सकती है। मस्तिष्क सहित शरीर की कोशिकाओं तक ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए आयरन आवश्यक है। जब ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित होती है, तो इससे थकान, कमजोरी और चिड़चिड़ापन हो सकता है, जो मूड स्विंग में योगदान देता है। लाल मांस, बीन्स और पत्तेदार साग जैसे आयरन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन आयरन की कमी को रोकने में मदद कर सकता है।

youtube-cover

5. मैग्नीशियम:

मैग्नीशियम शरीर में 300 से अधिक जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं में शामिल होता है, जिसमें मूड विनियमन से संबंधित प्रतिक्रियाएं भी शामिल हैं। मैग्नीशियम की कमी को चिंता और चिड़चिड़ापन जैसे लक्षणों से जोड़ा गया है। अपने आहार में मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थ जैसे नट्स, बीज, साबुत अनाज और पत्तेदार सब्जियां शामिल करने से भावनात्मक कल्याण में मदद मिल सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा