शरीर में चिंता के शारीरिक लक्षण और संकेत क्या है जानिये विस्तार से: मानसिक स्वास्थ्य 

What are the physical symptoms and signs of anxiety in the body, know in detail: Mental Health
शरीर में चिंता के शारीरिक लक्षण और संकेत क्या है जानिये विस्तार से: मानसिक स्वास्थ्य

चिंता के ये शारीरिक लक्षण परेशान करने वाले हो सकते हैं, लेकिन जरूरी नहीं कि ये खतरनाक हों। हालांकि, यदि ये लक्षण गंभीर या लगातार हैं, तो मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर की मदद लेना महत्वपूर्ण है। वे एक निदान प्रदान कर सकते हैं और चिंता को प्रबंधित करने में मदद के लिए एक उपचार योजना विकसित कर सकते हैं। चिंता विकारों के उपचार के विकल्पों में चिकित्सा, दवा या दोनों का संयोजन शामिल हो सकता है।

थेरेपी विकल्पों में कॉग्निटिव-बिहेवियरल थेरेपी (सीबीटी) और एक्सपोज़र थेरेपी शामिल हैं, जो किसी व्यक्ति को उनकी चिंता को प्रबंधित करने के तरीके सीखने में मदद कर सकती हैं। एंटीडिप्रेसेंट, एंटी-चिंता दवाएं और बीटा-ब्लॉकर्स जैसी दवाएं भी लक्षणों को प्रबंधित करने में सहायक हो सकती हैं। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि हर कोई चिंता को अलग तरह से अनुभव करता है।

चिंता के शारीरिक लक्षण!
चिंता के शारीरिक लक्षण!

एक व्यक्ति में चिंता का क्या कारण हो सकता है दूसरे में चिंता का कारण न हो। यह समझना आवश्यक है कि चिंता के शारीरिक लक्षण असामान्य नहीं हैं और यह मदद उपलब्ध है। चिंता एक सामान्य और अक्सर स्वस्थ भावना है। हालांकि, जब कोई व्यक्ति नियमित रूप से चिंता के असमान स्तर को महसूस करता है, तो यह एक चिकित्सा विकार बन सकता है। चिंता बेचैनी की भावना है, जैसे चिंता या भय, जो हल्का या गंभीर हो सकता है। चिंता विकार मानसिक स्वास्थ्य निदान की एक श्रेणी बनाते हैं और एक मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर द्वारा इसका निदान किया जा सकता है।

चिंता विभिन्न प्रकार के शारीरिक लक्षणों और संकेतों में खुद को प्रकट कर सकती है। चिंता के कुछ सबसे आम शारीरिक लक्षणों में शामिल हैं:

निम्नलिखित पर ध्यान दें

· मांसपेशियों में तनाव: चिंता से मांसपेशियों में तनाव हो सकता है, खासकर गर्दन, कंधे और पीठ में। इस तनाव से सिरदर्द, दर्द और अकड़न हो सकती है।

· जी मिचलाना: चिंता के कारण व्यक्ति का पेट खराब हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप मतली या उल्टी भी हो सकती है।

youtube-cover

· तेज़ दिल की धड़कन: चिंता के कारण हृदय गति बढ़ सकती है, जिससे तेज़ दिल की धड़कन या धड़कन महसूस हो सकती है।

· सांस की तकलीफ: चिंता के कारण व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ हो सकती है, जैसे कि वह अपनी सांस लेने में असमर्थ हो।

· थकान: चिंता से थकावट की भावना पैदा हो सकती है, जिससे दिन के दौरान जागना और सतर्क रहना मुश्किल हो जाता है।

· अनिद्रा: चिंता से सोने में कठिनाई हो सकती है, जिससे अनिद्रा हो सकती है।

· चक्कर आना: चिंता के कारण व्यक्ति को सिर चकराने या चक्कर आने जैसा महसूस हो सकता है, जो तेज़ दिल की धड़कन और सांस की तकलीफ के कारण हो सकता है।

· पसीना आना: चिंता के कारण अत्यधिक पसीना आता है, खासकर हाथों की हथेलियों और पैरों के तलवों में।

· कंपकंपी: चिंता के कारण कंपकंपी या कंपकंपी हो सकती है, खासकर हाथों में।

· डायरिया: चिंता से पेट में परेशानी हो सकती है, जिससे डायरिया हो सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now