ऐसी कौन सी 5 छोटी आदतें हैं जो आपको अलग-थलग कर रही हैं?

What are the tiny 5 habits which are isolating you?
ऐसी कौन सी 5 छोटी आदतें हैं जो आपको अलग-थलग कर रही हैं?

आज की तेजी से भागती दुनिया में, अपनी दिनचर्या में फंस जाना और अपनी आदतों पर ध्यान न देना आसान है। हम में से बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि समय के साथ अपनाई जाने वाली छोटी-छोटी आदतें हमारे जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती हैं।

जबकि कुछ आदतें हमें अधिक उत्पादक बनने में मदद कर सकती हैं, अन्य अलग-थलग पड़ सकती हैं और हमारे मानसिक और भावनात्मक कल्याण पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती हैं।

यहां पांच छोटी आदतें हैं जो आपको अलग कर सकती हैं और आप उन्हें तोड़ने के लिए क्या कर सकते हैं।

सुबह सबसे पहले अपना फोन चेक करना

हममें से कई लोग जागते ही अपने फोन को स्क्रॉल करने के दोषी हैं। हालांकि यह हानिरहित लग सकता है, यह दिन के लिए एक नकारात्मक स्वर सेट कर सकता है। सुबह सबसे पहले अपने फोन को चेक करने से आप अपने दिन की शुरुआत एक स्पष्ट और केंद्रित दिमाग से नहीं कर पाएंगे। यह आपके आस-पास के लोगों से अलगाव और वियोग की भावना भी पैदा कर सकता है।

अपने डेस्क पर दोपहर का खाना

अपने डेस्क पर दोपहर का खाना!
अपने डेस्क पर दोपहर का खाना!

अपने डेस्क पर दोपहर का भोजन करना काम करने का एक सुविधाजनक तरीका लग सकता है, लेकिन यह आपके मानसिक स्वास्थ्य और तंदुरूस्ती पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। जब आप अपने डेस्क पर भोजन करते हैं, तो आप अपने सहकर्मियों से खुद को अलग कर लेते हैं और मूल्यवान सामाजिक संपर्क खो देते हैं। इसके अतिरिक्त, काम से खाने और सामूहीकरण के लिए ब्रेक लेने से उत्पादकता बढ़ाने और तनाव कम करने में मदद मिल सकती है।

आंखों के संपर्क से बचना

आज के डिजिटल युग में आंखों के संपर्क से बचना और स्क्रीन के पीछे छिपना आसान है। हालांकि, आंखों के संपर्क से बचना अलग-थलग हो सकता है और हमें अपने आसपास के लोगों से जुड़ने से रोक सकता है। आँख से संपर्क संचार का एक अनिवार्य घटक है और विश्वास और सहानुभूति बनाने में मदद कर सकता है।

हमेशा हाँ कहना

youtube-cover

हममें से कई लोगों को ना कहने में कठिनाई होती है, चाहे वह सामाजिक निमंत्रण, कार्य अनुरोध या व्यक्तिगत प्रतिबद्धताएं हों। हालांकि हाँ कहना एक सकारात्मक आदत की तरह लग सकता है, यह बर्नआउट और अलगाव की ओर ले जा सकता है। जब हम हर चीज के लिए हां कहते हैं, तो हम अपने आप को बहुत पतला कर लेते हैं और अपनी जरूरतों और प्राथमिकताओं की उपेक्षा कर देते हैं।

मल्टीटास्क करना

हम में से बहुत से लोग मल्टीटास्क करने की अपनी क्षमता पर गर्व करते हैं, लेकिन यह आदत अलग-थलग हो सकती है और हमें पल में पूरी तरह से उपस्थित होने से रोक सकती है। जब हम मल्टीटास्क करते हैं, तो हम अपना ध्यान कई कार्यों के बीच बांटते हैं और उनमें से किसी के साथ पूरी तरह से नहीं जुड़ते हैं। यह वियोग की भावनाओं को जन्म दे सकता है और हमें अपने आसपास के लोगों के साथ सार्थक संबंध बनाने से रोक सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by वैशाली शर्मा
App download animated image Get the free App now