Create

अवसाद और आत्महत्या के बारे में बात करना क्यों ज़रूरी है?

Why It
अवसाद और आत्महत्या के बारे में बात करना क्यों ज़रूरी है?
reaction-emoji
वैशाली शर्मा

अवसाद (depression) हो या आत्महत्या (suicide) ये दोनों ही शब्द कोई आम शब्द नही हैं. ये ना ही सिर्फ एक इंसान से उसका सब कुछ छीन लेतें हैं, बल्कि उनकी कई पीढ़ियों को भी बर्बाद कर देतें है. इसलिए ना ही सिर्फ ये ज़रूरी है, की इनके बारे में बात की जाए, बल्कि उससे ज़्यादा जरूरी है, की इन्हें गहराई से समझा और दूसरों को समझाया जाए. अपने मेरे लेखों में कई बार सुना होगा, एक बार फिर कहती हूँ, " आपके शरीर को शरीरिक और मानसिक दर्द में अंतर नही पता होता. वो हर दर्द को दर्द की तरह ही लेता है" जैसे की अगर आपका हाथ चोटिल है और आप जैसा दर्द महसूस कर रहे हैं, ठीक वैसा ही या उसे अधिक दर्द आपको आपके ब्रेकअप का भी महसूस होगा. इन दोनों ही दर्दों में शरीर को एक सा दर्द ही महसूस होगा क्यूंकि आपके शरीर के लिए तो हर दर्द एक सामान होता है.

दरअसल, इसके बारे में बात करने से मरीजों और उनके परिवारों में जागरूकता फैलाने में मदद मिलती है.

बात करने से हल होती हैं समस्याएं:

अगर मनोवाज्ञानिक की माने तो अकेले मानसिक बीमारी के चलते आत्महत्या नहीं होती है, और मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति के लक्षणों का अनुभव करने वाले अधिकांश लोग आत्महत्या से नहीं मरते हैं। हालांकि, मानसिक बीमारी उन जोखिम कारकों में से एक है जो किसी व्यक्ति के आत्मघाती विचारों का अनुभव करने या आत्महत्या का प्रयास करने या मरने की संभावना को बढ़ा सकता है।

आत्महत्या एक जरूरी और जटिल सार्वजनिक स्वास्थ्य मुद्दा है। यूनिवर्सल स्क्रीनिंग एक साक्ष्य-आधारित दृष्टिकोण है जिसका उपयोग व्यापक रोकथाम के प्रयासों में किया जा सकता है ताकि जोखिम वाले व्यक्तियों को अधिक प्रभावी ढंग से पहचानने में मदद मिल सके, विशेष रूप से वे जो आत्मघाती लक्षणों या मानसिक बीमारी के लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं।

आत्महत्या के लिए जोखिम कारक निम्न है:

• पिछले आत्महत्या के प्रयास

• परिवार में आत्महत्या का इतिहास

• पदार्थ का दुरुपयोग

• मनोदशा संबंधी विकार (अवसाद, द्विध्रुवी विकार)

• घातक साधनों तक पहुंच (जैसे, घर में धार दार हथियार रखना)

• नुकसान और अन्य घटनाएँ (उदाहरण के लिए, किसी रिश्ते का टूटना या मृत्यु, शैक्षणिक विफलताएँ, कानूनी कठिनाइयाँ, वित्तीय कठिनाइयाँ)

• आघात या दुर्व्यवहार का इतिहास

आप क्या कर सकते हैं:

अगर कोई इशारा करता है कि वे आत्महत्या पर विचार कर रहे हैं, तो सुनें और उनकी चिंताओं को गंभीरता से लें। उनकी योजनाओं के बारे में सवाल पूछने से न डरें। उन्हें बताएं कि आप परवाह करते हैं, और वे अकेले नहीं हैं। उन्हें किसी जानकार पेशेवर से तुरंत मदद लेने के लिए प्रोत्साहित करें। उन्हें अकेला मत छोड़ो।

यदि आप किसी मित्र या प्रियजन के बारे में चिंतित हैं, तो आप क्या कर सकते हैं, इसके लिए निम्न पर ध्यान दें:

1. पूछें "क्या आप खुद को मारने की सोच रहे हैं?" (हालांकि लोग पूछने में झिझक सकते हैं, शोध से पता चलता है कि यह मददगार है।)

2. उन्हें सुरक्षित रखें। घातक वस्तुओं या स्थानों तक पहुंच कम करें।

3. उनके साथ वहां रहें। ध्यान से सुनें और उनकी भावनाओं को स्वीकार करें।

4. उन्हें जरूरत पड़ने पर तुरंत किसी काउंसलर को दिखायें

5. उनसे साथ जुड़े रहें और और संकट के बाद संपर्क में रहें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by वैशाली शर्मा
reaction-emoji

Comments

comments icon
Fetching more content...