विश्व अस्थमा दिवस 2023: क्या मोटापा अस्थमा का ट्रिगर है?

World Asthma Day 2023: Is Obesity a Trigger of Asthma?
विश्व अस्थमा दिवस 2023: क्या मोटापा अस्थमा का ट्रिगर है?

विश्व अस्थमा दिवस हर साल मई के पहले मंगलवार को अस्थमा के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है, जो एक पुरानी सांस की बीमारी है जो दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करती है। इस वर्ष, विश्व अस्थमा दिवस का विषय "अस्थमा केयर फॉर ऑल" हैं। हाल के शोध बताते हैं कि मोटापा अस्थमा का ट्रिगर हो सकता है।

अस्थमा एक पुरानी सांस की बीमारी है जो फेफड़ों में वायुमार्ग को प्रभावित करती है।

अस्थमा से पीड़ित लोगों के वायुमार्ग में सूजन होती है जो धूल, धुएं और व्यायाम जैसे कुछ ट्रिगर्स के प्रति संवेदनशील होते हैं। जब वायुमार्ग एक ट्रिगर के संपर्क में आते हैं, तो वे संकीर्ण हो जाते हैं, जिससे फेफड़ों से हवा का अंदर और बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है, जिससे घरघराहट, खांसी की तकलीफ जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

youtube-cover

मोटापा एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति के शरीर में अत्यधिक मात्रा में वसा जमा हो जाती है, जिससे विभिन्न स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, जैसे मधुमेह, हृदय रोग और उच्च रक्तचाप। मोटापा भी अस्थमा के लिए एक जोखिम कारक है, और हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि मोटापा वास्तव में अस्थमा का ट्रिगर हो सकता है।

यूरोपियन रेस्पिरेटरी जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि मोटापा अस्थमा के बढ़ते जोखिम से जुड़ा था।

अध्ययन ने 20 वर्षों तक 5,000 से अधिक लोगों का अनुसरण किया और पाया कि जो लोग अधिक वजन वाले या मोटे थे, उनमें सामान्य वजन वाले लोगों की तुलना में अस्थमा विकसित होने की संभावना अधिक थी। अध्ययन में यह भी पाया गया कि जो लोग अधिक वजन वाले या मोटे थे उनमें अस्थमा के गंभीर लक्षण होने और सामान्य वजन वाले लोगों की तुलना में अधिक अस्थमा की दवा का उपयोग करने की संभावना अधिक थी।

अमेरिकन जर्नल ऑफ रेस्पिरेटरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन

मोटापा अस्थमा के बढ़ते जोखिम से जुड़ा था, जो अस्थमा के लक्षणों के अचानक और गंभीर रूप से बिगड़ने के कारण होता है, जिसके लिए चिकित्सा की आवश्यकता होती है।

मोटापा अस्थमा के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है!
मोटापा अस्थमा के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है!

अध्ययन ने एक वर्ष के लिए अस्थमा से पीड़ित 1,000 से अधिक लोगों का अनुसरण किया और पाया कि जो लोग अधिक वजन वाले या मोटे थे, उनमें सामान्य वजन वाले लोगों की तुलना में अस्थमा की अधिक संभावना थी।

तो, जो लोग अधिक वजन वाले या मोटे हैं वे अस्थमा के जोखिम को कम करने के लिए क्या कर सकते हैं?

यहाँ कुछ युक्तियाँ हैं:

वजन कम करें:

वजन कम करने से शरीर में सूजन को कम करने और फेफड़ों की कार्यक्षमता में सुधार करने में मदद मिल सकती है, जिससे अस्थमा का खतरा कम हो सकता है। अपने शरीर के वजन का सिर्फ 5-10% कम करना एक बड़ा अंतर ला सकता है।

नियमित रूप से व्यायाम करें:

व्यायाम फेफड़ों के कार्य को बेहतर बनाने और शरीर में सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट का मध्यम व्यायाम करने का लक्ष्य रखें, जैसे तेज चलना।

स्वस्थ आहार लें:

स्वस्थ आहार लें!
स्वस्थ आहार लें!

फलों, सब्जियों, साबुत अनाज और लीन प्रोटीन से भरपूर स्वस्थ आहार खाने से शरीर में सूजन को कम करने और समग्र स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

तनाव का प्रबंधन करें:

तनाव अस्थमा के लक्षणों को ट्रिगर कर सकता है, इसलिए तनाव को प्रबंधित करने के तरीके खोजना महत्वपूर्ण है, जैसे कि योग, ध्यान या गहरी साँस लेने के व्यायाम का अभ्यास करना।

अस्थमा ट्रिगर्स से बचें:

अस्थमा से पीड़ित लोगों को धूम्रपान, पराग, धूल और पालतू जानवरों की रूसी जैसे ट्रिगर्स से बचना चाहिए, और जो लोग अधिक वजन वाले या मोटे हैं, उन्हें इन ट्रिगर्स से बचने के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए, क्योंकि वे उनके प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now