Create

FIH प्रो हॉकी लीग : भारतीय महिला टीम ने ओलंपिक सिल्वर मेडलिस्ट और पूर्व विश्व चैंपियन अर्जेंटीना को हराया

महिला टीम फिलहाल अंक तालिका में तीसरे स्थान पर है, अर्जेंटीना पहले ही खिताब जीत चुकी है।
महिला टीम फिलहाल अंक तालिका में तीसरे स्थान पर है, अर्जेंटीना पहले ही खिताब जीत चुकी है।

भारतीय महिला हॉकी टीम ने विश्व नंबर 2 अर्जेंटीना का महिला टीम को FIH प्रो हॉकी लीग के पहले लेग के मैच में शूटआउट में हराकर सभी को हैरान कर दिया। दोनों टीमों ने पहले 3-3 से ड्रॉ खेला और इसके बाद शूटआउट में 2-1 से जीत दर्ज कर अतिरिक्त अंक प्राप्त किया। नीदरलैंड के रॉटरडैम में हो रहे मुकाबले में भारत को लालरेमसियामी ने तीसरे ही मिनट में फील्ड गोल कर भारत को 1-0 से आगे कर दिया।

😍 FULL-TIME!The TEAM never gave up... 💪 and defeated Argentina in the Shootouts.IND 3:3 ARG (SO 2:1)#IndiaKaGame #HockeyIndia #FIHProLeague #MatchDay @CMO_Odisha @sports_odisha @IndiaSports @Media_SAI https://t.co/oYNgbwAE83

इसके बाद अर्जेंटीना की गोर्जलेनी ऑगस्तिना ने 21वें मिनट में पेनेल्टी कॉर्नर को गोल में बदला और 36वें मिनट में पेनेल्टी स्ट्रोक से गोल कर अर्जेंटीना को 2-1 से आगे कर दिया। लेकिन गुरजीत कौर ने तुरंत पेनेल्टी कॉर्नल से गोल किया और मैच 2-2 से बराबरी पर आ गया। तीसरे क्वार्टर के खत्म होने से ठीक पहले ऑगस्तिना ने एक और गोल कर अर्जेंटीना को 3-2 की बढ़त दिलाई। गुरजीत कौर ने 50वें मिनट में पेनेल्टी कॉर्नर को कन्वर्ट कर सफलता पाई और स्कोर 3-3 से बराबर रहा जो निर्णायक रहा।

इसके बाद अतिरिक्त अंक के लिए दोनों टीमों के बीच शूटआउट हुआ। भारत के लिए सॉनिका और नेहा ने सफलता हासिल की जबकि अर्जेंटीना ने 5 प्रयास में सिर्फ 1 में गोल दागा। ऐसे में 2-1 के स्कोर से साथ भारतीय महिला टीम ने बेहद बड़ी जीत दर्ज की।

इस जीत के बाद भारतीय महिला टीम 11 मैचों में 4 जीत, 4 ड्रॉ और 3 हार के साथ तीसरे स्थान पर है और उसके 24 अंक हैं। अर्जेंटीना की टीम के 15 मैचों से 39 अंक हैं और टीम फिलहाल टॉप पर है वहीं नीदरलैंड की टीम के 14 मैचों से कुल 32 अंक हैं। अर्जेंटीना की टीम पहले ही खिताब अंकों के अंतर के आधार पर अपने नाम कर चुकी है लेकिन भारतीय महिला टीम का प्रदर्शन इस बार काफी सराहनीय रहा है। टीम रविवार को फिर अर्जेंटीना के खिलाफ दूसरे मैच में खेलेगी।

Quick Links

Edited by निशांत द्रविड़
Be the first one to comment