Create
Notifications

महिला हॉकी विश्व कप : लगातार 7वीं बार सेमीफाइनल में पहुंचा नीदरलैंड्स, जर्मनी भी अंतिम 4 में

नीदरलैंड्स की टीम 14 में से 13 बार विश्व कप में सेमीफाइनल तक पहुंची है।
नीदरलैंड्स की टीम 14 में से 13 बार विश्व कप में सेमीफाइनल तक पहुंची है।
Hemlata Pandey

गत विजेता और 8 बार की चैंपियन नीदरलैंड्स की टीम ने FIH महिला विश्व कप 2022 के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। मेजबान टीम ने कड़े क्वार्टरफाइनल में बेल्जियम को 2-1 से मात दी। टोक्यो ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट नीदरलैंड्स की टीम ने अभी तक पूरे टूर्नामेंट में एक भी मैच नहीं गंवाया है और इस बार भी खिताब की प्रबल दावेदार मानी जा रही है।

Q4: 60' NED 2-1 BEL@oranjehockey head off to Terrassa, Spain for the semifinals as games at Wagener Stadium now wrap up in Amstelveen. 📱- Watch the games LIVE on Watch.Hockey in 🇨🇦 🇰🇷🇨🇳🇯🇵🇿🇦 #HWC2022 #HockeyEquals #NEDvBEL

नीदरलैंड्स के लिए 14वें मिनट में ल्यूरिंक लॉरियन ने फील्ड गोल किया जिसके बाद बेल्जियम के लिए तीसरे क्वार्टर में 37वें मिनट में गर्नियर एलिक्स का गोल आया। चौथे और आखिरी क्वार्टर की शुरुआत में मोइस फ्रीक ने नीदरलैंड्स के लिए गोल दागा और मैच का निर्णायक स्कोर 2-1 से मेजबान देश के पक्ष में रहा। महिला विश्व कप के इससे पहले 14 संस्करण हो चुके हैं जिनमें से 13 में नीदरलैंड्स की टीम सेमीफाइनल में पहुंची है। सिर्फ 1 बार साल 1994 में टीम अंतिम 4 में नहीं पहुंच पाई थी।

दिन के दूसरे क्वार्टरफाइनल में 2 बार की चैंपियन (बतौर वेस्ट जर्मनी) ने न्यूजीलैंड को कड़े मुकाबले में 1-0 से हराया और 12 सालों बाद सेमीफाइनल में पहुंची। जर्मनी की टीम आखिरी बार साल 2010 में सेमीफाइनल में पहुंची थी और चौथे स्थान पर रही थी। इसके बाद साल 2014 और 2018 में हुए संस्करणों में टीम अंतिम 4 तक नहीं पहुंच पाई थी। मैच का इकलौता गोल 16वें मिनट में मिचेल लीना की स्टिक से फील्ड गोल के रूप में आया। इस गोल के बाद जर्मनी ने अपना डिफेंस मजबूत रखा और बेल्जियम को गोल का मौका नहीं दिया।

न्यूजीलैंड के खिलाफ इकलौते गोल का जश्न मनाती जर्मनी की टीम।
न्यूजीलैंड के खिलाफ इकलौते गोल का जश्न मनाती जर्मनी की टीम।

बुधवार को विश्व कप के बाकी दो क्वार्टरफाइनल मैच खेले जाएंगे। तीसरे क्वार्टरफाइनल में साल 1994 और 1998 की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया का मुकाबला पिछली बार की ब्रॉन्ज मेडलिस्ट स्पेन से होगा। खास बात ये है कि ऑस्ट्रेलिया ने पिछली बार स्पेन के खिलाफ ही ब्रॉन्ज मेडल मैच गंवाया था, ऐसे में कंगारूओं के पास पिछली हार का बदला चुकाने का मौका है। दोनों टीमों के बीच कुल 22 मैच हुए हैं और ऑस्ट्रेलियाई टीम ने कुल 14 मैच जीते हैं, 2 मैच स्पेन के नाम रहे जबकि बाकी 6 मुकाबले ड्रॉ रहे। इस मैच की विजेता का सामना सेमीफाइनल में नीदरलैंड्स से होगा।

आखिरी क्वार्टरफाइनल में अर्जेंटीना का सामना इंग्लैंड से होगा। इंग्लैंड की टीम सिर्फ एक बार साल 2010 में सेमीफाइनल में पहुंची थी जहां उसने तीसरा स्थान हासिल किया था जबकि अर्जेंटीना की टीम 2002 और 2010 में विजेता रह चुकी है जबकि कुल 9 बार सेमीफाइनल खेल चुकी है।


Edited by Prashant Kumar

Comments

Fetching more content...