Create

परीक्षा का ट्रेनिंग पर नहीं पड़ रहा कोई असर: श्रीहरि नटराज

श्रीहरि नटराज
श्रीहरि नटराज
Vivek Goel

19 साल के युवा के लिए परीक्षा और टोक्‍यो ओलंपिक्‍स की तैयारी बीच सामंजस्‍य बैठाना आसान नहीं। मगर उभरते हुए भारतीय तैराक श्रीहरि नटराज ऐसा कर रहे है। 2019 में बुडापेस्‍ट में विश्‍व जूनियर चैंपियनशिप में 18 साल के श्रीहरि नटराज ने बैकस्‍टोर इवेंट्स में सीनियर नेशनल रिकॉर्ड्स तोड़े थे। यही नहीं, नटराज अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर के अपने मौकों को अच्‍छे से भुना रहे थे क्‍योंकि 2018 वर्ल्‍ड एक्‍वाटिक्‍स चैंपियनशिप्‍स, 2018 कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स व 2018 एशियाई गेम्‍स में देश का प्रतिनिधित्‍व किया।

नटराज को हालांकि टोक्‍यो ओलंपिक्‍स बर्थ की पुष्टि का इंतजार है। नटराज ने 100 मीटर बैकस्‍ट्रोक में निचली बी क्‍वालीफिकेशन मार्क या ओलंपिक चयन समय (ओएसटी) में जगह सुरक्षित की थी। 100 मीटर बैकस्‍ट्रोक सेमीफाइनल्‍स में राष्‍ट्रीय रिकॉर्ड समय 54.69 सेंकड में इसे हासिल किया।

नटराज ने बी क्‍वालीफिकेशन हासिल किया, जिसका मतलब कि वह टोक्‍यो ओलंपिक्‍स के लिए तब ही क्‍वालीफाई कर पाएंगे जब तैराकों को कुल कोटा क्‍वालीफिकेशन अवधि के अंत तक पूरा नहीं पहुंचे। इवेंट के लिए स्‍वायत्‍त क्‍वालीफिकेशन समय 53.85 सेकंड है। मगर इस समय नटराज ट्रेनिंग सेशन से दूर होकर अपनी परीक्षा की तैयारियों में जुटे हुए हैं।

श्रीहरि नटराज को भारत में दिख रहा भविष्‍य

श्रीहरि नटराज ने ओलंपिक चैनल से बातचीत में कहा, 'जी हां, कुछ सप्‍ताह पहले मेरी परीक्षा थी। मेरे फाइनल एक्‍जाम के तीसरे सेमेस्‍टर थे। इससे मेरी ट्रेनिंग पर प्रभाव नहीं पड़ा क्‍योंकि मुझे पढ़ाई के बीच समय मिल जाता है और मैं पेपर के लिए अपनी तैयारी कर लेता हूं।' युवा नटराज को थोड़ी सी घबराहट इस बात की है कि ओलंपिक खेल की मांग है कि बहुत युवा उम्र से अपने शरीर का ख्‍याल रखना होता है। नटराज ने खुलासा किया कि बढ़ते हुए उन्‍हें समझ आया कि जितना हो सके उतना जंक फूड से दूर रहूं, जिसका विश्‍व स्‍तर पर खुद को चुस्‍त बनाए रखने के लिए एलीट एथलीट को समझौता करना पड़ता है।

नटराज ने कहा, 'मेरी कोई विशेष डाइट नहीं है, लेकिन मैं यह सुनिश्चित करता हूं कि पर्याप्‍त गुणी और न्‍यूट्रीएंट लूं तथा जंक फूड खाने से बचूं।' नटराज ने दो नेशनल रिकॉर्ड 2019 फिना वर्ल्‍ड चैंपियनशिप्‍स में तोड़े। नटराज का मानना है कि भारत में धीरे-धीरे ढांचा सुधर रहा है और यूरोप व अमेरिका के स्‍तर को पकड़ रहा है। नटराज इस समय बेंगलुरु में द्रोणाचार्य अवॉर्ड विजेता स्विमिंग कोच निहार अमीन की देखरेख में अभ्‍यास कर रहे हैं। नटराज का मानना है कि भारत में यहां सर्वश्रेष्‍ठ सुविधा में से एक है।


Edited by Vivek Goel

Comments

Fetching more content...