Create

डेविस कप वर्ल्ड ग्रुप टाई में नॉर्वे से शुरुआती दोनों मुकाबले हारा भारत

पहले सिंगल्स मैच में विश्व नंबर 2 कैस्पर रूड (बाएं) ने भारत के प्रज्ञनेश को मात दी। (सौ.- ITD)
पहले सिंगल्स मैच में विश्व नंबर 2 कैस्पर रूड (बाएं) ने भारत के प्रज्ञनेश को मात दी। (सौ.- ITD)
Hemlata Pandey

पुरुष टीम टेनिस की सबसे बड़ी प्रतियोगिता डेविस कप वर्ल्ड ग्रुप टाई I के पहले दिन नॉर्वे ने भारत पर 2-0 की बढ़त हासिल कर ली है। नॉर्वे में ही रहे मुकाबलों में भारत के प्रज्ञनेश गुन्नेश्वरन को विश्व नंबर 2 कैस्पर रूड ने मात दी तो दूसरे सिंगल्स मैच में रामकुमार रामनाथन विक्टर दुरासोविच से हार गए। अब भारत को आज होने वाले बचे तीनों मैच जीतने होंगे, नहीं तो टीम वर्ल्ड ग्रुप से बाहर हो जाएगी।

DAVIS CUP: NORWAY 1, INDIA 0World No.2 Casper Ruud asserted his class as he breezed past Prajnesh GunneswaranPrajnesh put up a strong fight in the 2nd set, but Ruud was too good in the end[Rubber 1] Casper Ruud(🇳🇴,2) d. Prajnesh Gunneswaran(🇮🇳,335) 6-1 6-4 https://t.co/fFk2kMTZGC

एटीपी रैंकिंग में 355वें नंबर पर काबिज प्रज्ञनेश को रूड के खिलाफ काफी मुश्किल झेलनी पड़ी और रूड ने 6-1, 6-4 से मैच जीता। पहले सेट में रूड ने लगातार पांच गेम जीते, जिसके बाद प्रज्ञनेश ने पहला गेम जीता। रूड ने जल्द ही पहला सेट आसानी से अपने नाम कर लिया। प्रज्ञनेश ने दूसरे सेट में रूड को चुनौती देने की कोशिश की, लेकिन इस साल के फ्रेंच ओपन और यूएस ओपन विजेता रूड ने बेहतरीन खेल दिखाते हुए मैच जीत लिया।

पुरुष सिंगल्स रैंकिंग में भारत के टॉप प्लेयर रामकुमार रामनाथन (रैंकिंग 275) के सामने विश्व नंबर 325 विक्टर दुरासोविच थे। ऐसे में उम्मीद थी कि रामकुमार इस मैच को जीत लेंगे, लेकिन दुरासोविच ने भी ये मैच 6-1, 6-4 के अंतर से जीत लिया। इस तरह नॉर्वे ने 2-0 की बढ़त ले ली है।अब दोनों देशों के बीच डबल्स मैच होगा जिसके बाद रिवर्स सिंगल्स खेले जाएंगे। डबल्स में भारत की ओर से युकी भांबरी और साकेत मियानी की जोड़ी उतरेगी। वहीं रिवर्स सिंगल्स में प्रज्ञनेश विक्टर दुरासोविच का और रामकुमार कैस्पर रूड का सामना करेंगे।

जीत के बाद दर्शकों को ऑटोग्राफ देते कैस्पर रूड
जीत के बाद दर्शकों को ऑटोग्राफ देते कैस्पर रूड

अगर भारत इन बचे तीन मैचों में से एक भी हारता है तो अगले साल डेविस कप के मुख्य क्वालीफाइंग राउंड तक नहीं पहुंच पाएगा और एक बार फिर वर्ल्ड ग्रुप I प्ले-ऑफ में पहुंच जाएगा। भारत इतिहास में तीन बार 1966, 1974, 1987 में डेविस कप के मुख्य ड्रॉ में खेलते हुए उपविजेता रहा है।


Edited by Prashant Kumar

Comments

comments icon
Fetching more content...