डेविस कप : वर्ल्ड ग्रुप फाइनल्स के अंतिम 8 में पहुंचे अमेरिका और नीदरलैंड्स, स्पेन के लिए आज जीत बेहद जरुरी

नीदरलैंड्स के बॉटिक ने अमेरिकी विश्व नंबर 12 टेलर फ्रिट्ज को हराकर डच टीम को जीत दिलाई।
नीदरलैंड्स के बॉटिक ने अमेरिकी विश्व नंबर 12 टेलर फ्रिट्ज को हराकर डच टीम को जीत दिलाई।

अमेरिका और नीदरलैंड्स की टीमों ने डेविस कप के वर्ल्ड ग्रुप फाइनल्स के नॉकआउट दौर में प्रवेश कर लिया है। वर्ल्ड ग्रुप फाइनल्स के ग्रुप डी मे नीदरलैंड ने अमेरिका को 2-1 से हराया और ग्रुप में टॉप पर रहा, जबकि अमेरिका 2 जीत के बाद ग्रुप में दूसरे नंबर पर है। इस ग्रुप में शामिल ग्रेट ब्रिटेन और कजाकिस्तान की टीमें आज एक-दूसरे का सामना करेंगी, हालाँकि दोनों ने ही कोई टाई नहीं जीती है, ऐसे में ग्रुप डी से अमेरिका और नीदरलैंड्स ही क्वार्टरफाइनल में प्रवेश करेंगी।

नीदरलैंड्स की टीम ने इस मैच से पहले ग्रेट ब्रिटेन और कजाकिस्तान को 2-1 के अंतर से हराया था। अमेरिका ने भी ब्रिटेन और कजाकिस्तान पर 2-1 के अंतर से ही जीत हासिल की थी। ग्रुप डी में दोनों टीमों का ये तीसरा मैच था जिसमें नीदरलैंड ने दोनों सिंगल्स मैच जीते। डच टीम के टैलन ग्राइस्कपोर ने पहले अमेरिका के टॉमी पॉल को हराया, इसके बाद विश्व नंबर 35 बोटिक वैन डी जैंडशल्प ने विश्व नंबर 12 टेलर फ्रिट्ज को मात दी। डबल्स मुकाबले में अमेरिका की जीत हुई।

ग्रुप बी में स्थिति काफी रोचक है। कनाडा के पास 2 जीत और 1 हार है, सर्बिया ने भी 2 मैच जीते हैं और 1 गंवाया है। इस ग्रुप में शामिल स्पेन को आज दक्षिण कोरिया से मुकाबला खेलना है। स्पेन ने सर्बिया को हराया था और कनाडा से हारा था। ऐसे में स्पेन अगर आज कोरिया के खिलाफ मैच जीतता है तो सर्बिया और स्पेन में से सारे ग्रुप मैच मिलाकर जिसने ज्यादा मुकाबले जीते होंगे, वह टीम कनाडा के साथ क्वार्टरफाइनल में पहुंचेगी। ग्रुप सी से ऑस्ट्रेलिया और जर्मनी भी क्वालीफाई कर चुकी हैं जबकि फ्रांस और बेल्जियम हारकर बाहर हैं।

ग्रुप ए में आज इटली और स्वीडन की भिड़ंत होगी। इटली अपने शुरुआती दोनों टाई जीत चुकी है जबकि क्रोएशिया ने 2 टाई जीती हैं और 1 गंवाई है। ऐसे में स्वीडन को क्वार्टरफाइनल में जाने के लिए आज इटली को हराना होगा।

क्या है वर्ल्ड ग्रुप ?

पुरुष टीम टेनिस की सबसे बड़ी स्पर्धा डेविस कप में वर्ल्ड ग्रुप फाइनल्स, वर्ल्ड ग्रुप I, वर्ल्ड ग्रुप II, और तीन जोन में बंटी होती है। हर साल तीनों जोन में देशों के बीच मुकाबले होते हैं जिसके विजेता वर्ल्ड ग्रुप II में पहुंचते हैं। वर्ल्ड ग्रुप II के नॉकआउट मुकाबलों की विजेता टीमें वर्ल्ड ग्रुप I में पहुंचती हैं और वर्ल्ड ग्रुप I की विजेता टीमों के पास अगले साल के वर्ल्ड ग्रुप फाइनल्स में जाने के लिए क्वालीफाइंग टाई खेलने का मौका होता है।

वर्ल्ड ग्रुप फाइनल्स में 16 टॉप टीमें हैं जिन्हें 4-4 के चार ग्रुप में बांटा गया था। हर ग्रुप में हर देश की टीमों के बीच 2 सिंगल्स और 1 डबल्स का मैच होता है। हर टाई जीतने पर विजेता टीम को प्वाइंट मिलते हैं। हर ग्रुप से टॉप पर रहने वाली दो टीमों को इस साल नवंबर में होने वाले नॉकआउट दौर के क्वार्टरफाइनल में प्रवेश मिलेगा।