Create
Notifications

मियामी ओपन: एश्‍ले बार्टी और डानिल मेदवेदेव ने सेमीफाइनल में जगह पक्‍की की

एश्‍ले बार्टी
एश्‍ले बार्टी
Vivek Goel

दुनिया की नंबर-1 एश्‍ले बार्टी ने मियामी ओपन टेनिस टूर्नामेंट के महिला एकल के सेमीफाइनल में प्रवेश किया जबकि पुरुष वर्ग में शीर्ष वरीय डानिल मेदवेदेव ने सीधे सेटों में जीत दर्ज करके अंतिम चार में जगह पक्‍की की।

बार्टी ने सातवीं वरीयता प्राप्त आर्यना सबालेंका को 6-4, 6-7 (5), 6-3 से हराया। यह पिछले चार मैचों में तीसरा अवसर है जबकि उन्होंने तीन सेट में जीत दर्ज की। महिला वर्ग में बार्टी सेमीफाइनल में पांचवीं वरीयता प्राप्त इलिना स्वितोलिना से भिड़ेगी जिन्होंने अनास्तेसिया सेवास्तोवा को 6-3, 6-2 से हराया।

मेदवेदेव ने हालांकि फ्रांसिस टिफोउ को आसानी 6-4, 6-3 से पराजित किया। सेमीफाइनल में मेदवेदेव और आगुट आमने सामने होंगे।

अमेरिका के सेबेस्टियन कोर्डा ने पांचवीं वरीयता प्राप्त अर्जेंटीनी खिलाड़ी डिएगो श्वार्टजमैन को 6-3, 4-6, 7-5 से हराकर उलटफेर किया। एक अन्य मैच में रूस के आंद्रेई रूबलेव ने मारिन सिलिच को 6-4, 6-4 से शिकस्त दी।

जॉन इसनर ने एक मैच प्वाइंट गंवाया और आखिर में राबर्टो बातिस्ता आगुट ने उन्हें 6-3, 4-6, 7-6 (7) से पराजित किया।

दुनिया की नंबर-1 बनना शानदार: एश्‍ले बार्टी

एश्‍ले बार्टी ने सेमीफाइनल में पहुंचने के बाद कहा, 'इस समय दुनिया में नंबर-1 बनना शानदार एहसास है। मगर मैं आपसे वादा करती हूं कि इससे मुझे खुशी नहीं मिलती। मेरा ध्‍यान रखने के लिए यह अच्‍छा है। मैं अपना सर्वश्रेष्‍ठ देने की कोशिश करती हूं, लेकिन नंबर-1 रैंकिंग को भटकाव या किसी प्रकार के दबाव के रूप में नहीं लेती हूं।'

वहीं जॉन इस्‍नर को मात देने के बाद बॉटिस्‍ट अगुट ने कहा, 'जॉन अच्‍छे दोस्‍त हैं। वह हमेशा मुकाबला मुश्किल बनाते हैं। उनकी सर्व काफी बड़ी है और फॉरहैंड के साथ बेसलाइन से खूब दम लगाते हैं। यह हमेशा मुकाबला मुश्किल बनाता है। मेरे ख्‍याल से मैंने पहला सेट शानदार खेला और फिर जॉन के सामने आपको दबाव महसूस होने लगता है। आखिरी अंक तक हम दोनों लड़ते रहें।'

इटली के जानिक सिनर ने फिनलैंड के एमिन रुसुवोरी को 6-3, 6-2 से मात देकर अंतिम आठ में प्रवेश किया। यह पहला मौका है जब 19 साल के सिनर ने एटीपी मास्‍टर्स इवेंट के क्‍वार्टर फाइनल में कदम रखा। सिनर ने जीत के बाद कहा, 'मेरे लिय यह जीत काफी मायने रखती है। पहला लक्ष्‍य दिन प्रतिदिन खेल में सुधार करना होता है। फिर जब आपको अच्‍छे नतीजे मिलते हैं तो आपको खुशी मिलती है।' सिनर का क्‍वार्टर फाइनल में सामना कजाख्‍स्‍तान के एलेक्‍सेंड बुबलिक से होगा।


Edited by Vivek Goel

Comments

Fetching more content...