Create
Notifications

टेनिस जगत में  भेदभाव पर सेरेना विलियम्स का बयान, कहा -'मुझे जेल में डाल देते'

सेरेना ने ज्वेरेव को उनकी हरकत के लिए दी गई सजा को दबे शब्दों में नाकाफी बताया।
सेरेना ने ज्वेरेव को उनकी हरकत के लिए दी गई सजा को दबे शब्दों में नाकाफी बताया।
Hemlata Pandey
visit

टेनिस की दुनिया के सबसे महान खिलाड़ियों में गिनी जाने वाली अमेरिकी की सेरेना विलियम्स का टेनिस कोर्ट पर महिला और पुरुष खिलाड़ियों के बीच होने वाले भेदभाव पर दर्द एक बार फिर छलका है। हाल ही में एक अंपायर के साथ बदसलूकी करने वाले जर्मनी के एलेक्जेंडर ज्वेरेव के ऊपर सिर्फ फाइन लगाए जाने पर सेरेना ने कहा कि अगर वो ऐसे करती तो शायद वो जेल में होतीं। अपने करियर में 23 सिंगल्स ग्रैंड स्लैम जीत चुकी सेरेना ने CNN को दिए इंटरव्यू में ये बात कही।

दोगलेपन पर उठाए सवाल

अंपायर की चेयर पर इस तरह मारने के लिए ज्वेरेव पर फाइन लगाया गया है।
अंपायर की चेयर पर इस तरह मारने के लिए ज्वेरेव पर फाइन लगाया गया है।

ओपन ऐरा में सबसे ज्यादा ग्रैंड स्लैम अपने नाम करने वाली सेरेना से इंटरव्यू के दौरान विश्व नंबर 3 पुरुष खिलाड़ी ज्वेरेव की हरकत पर सवाल पूछा गया था। सेरेना ने महिला और पुरुषों के बीच टेनिस जगत में होने वाले भेदभाव को उजागर करते हुए कहा कि ये दोगलापन है जो चलता रहता है। ज्वेरेव ने पिछले ही महीने मेक्सिको ओपन में पुरुष डबल्स के एक मुकाबले में हारने के बाद गलत लाइन कॉल लेने का आरोप लगाते हुए वहां बैठे चेयर अंपायर की चेयर पर टेनिस रैकेट से लगातार वार किया था। उनकी हरकत देखकर वहां मौजूद दर्शक समेत उनके खुद के पार्टनर और प्रतिद्वंदी भी हैरान थे। इस वाकये के बाद ज्वेरेव को टूर्नामेंट के सिंगल्स क्वार्टर-फाइनल से बाहर कर दिया गया और फिर उनपर 40 हजार डॉलर का जुर्माना लगाया गया था।

Alexander Zverev was recently withdrawn from the Mexican Open after he attacked the umpire's chair with his racket. As a Black athlete and a woman, @serenawilliams tells me there is a double standard. "I would probably be in jail if I did that," she says. https://t.co/sINWIeuBcP

सेरेना ने इस मामले में कहा कि अगर वो ऐसा कुछ करतीं तो जरूर उन्हें जेल में डाल दिया जाता। साल 2009 में यूएस ओपन में बेल्जियम की किम क्लाइज्टर्स के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले के दौरान सेरेना ने एक लाइन जज से बहस की थी जब उन्हें फुट फॉल्ट दिया गया था। इस मुकाबले के बाद सेरेना को दो साल के प्रोबेशन पर डाल दिया गया था, यही नहीं जांच के बाद उनपर पूरे 1.75 लाख अमेरिकी डॉलर का फाइन लगा था। इसके अलावा 2011 यूएस ओपन के दौरान एक शॉट लगाने के दौरान जब सेरेना ने अपनी विरोधी खिलाड़ी को केवल Come On कहा था तो उनपर 2 हजार डॉलर का फाइन लगा था। 2018 के अमेरिकी ओपन में नेओमी ओसाका के खिलाफ फाइनल मुकाबले में रैकेट तोड़ने, कोच की सहायता लेने और अंपायर से बहस के मामले में उनपर फिर जुर्माना लगाया गया। इन पूरे वाकयों के बाद सेरेना कई मौकों पर टेनिस कोर्ट पर महिला खिलाड़ियों की हरकतों पर लिए जाने वाले फैसलों और पुरुष खिलाड़ियों की हरकतों पर बरती जाने वाली नरमी पर सवाल उठा चुकी हैं।

'आज 30 से 32 ग्रैंड स्लैम होते'

सेरेना ने इंटरव्यू में कहा कि जब ऐसे वाकये (ज्वेरेव का प्रकरण) देखने को मिलते हैं तो वो बस ये सोचती हैं कि अगर ये हरकत सेरेना ने की होती तो टेनिस संघ उनके साथ क्या करता। सेरेना की मानें तो इतने सारे वाकये न होते तो शायद हालात कुछ और होते और वो 23 नहीं बल्कि आज तक 30 से 32 सिंगल्स खिताब अपने नाम कर चुकी होतीं।

At the beginning of the week, I sat down with one of the greatest tennis players of all time @serenawilliams in Paris.I asked Serena whether she thinks she can still match Margaret Court's record 24 Grand Slam singles titles. "I'm not giving up," she tells me. https://t.co/0zrMCGlRIN

हालांकि सेरेना ने ये भी कहा कि इन सभी के बावजूद वो जिस मुकाम पर हैं उससे खुश हैं। सेरेना ने अपना आखिरी ग्रैंड स्लैम 2017 में ऑस्ट्रेलियन ओपन के रूप में जीता था। वो 2018 और 2019, दोनों साल विम्बल्डन और यूएस ओपन के फाइनल में हार गईं थी। फैंस को बेसब्री से सेरेना की कोर्ट पर वापसी का इंतजार है।


Edited by Prashant Kumar
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now